न्यू हॉलैंड कीे नरवाई नष्ट करने की नई मशीनें

न्यू हॉलैंड कीे नरवाई नष्ट करने की नई मशीनें

www.krishakjagat.org
Share

नई दिल्ली। न्यूहॉलैंड एग्रीकल्चर ने विशेष तकनीकी साधनों की पूरी रेंज पेश की जिनसे फसलों के अनुपयोगी हिस्सों को जलाने के पुराने प्रचलन को रोका जा सकता है जिससे भयानक वायु प्रदूषण और उससे जुड़ी स्वास्थ्य की समस्याएं बढ़ती हैं।
न्यूहॉलैंड एग्रीकल्चर की मशीनों जैसे कि ट्रैक्टर, चॉपर के साथ कम्बाइन हार्वेस्टर, रेक, बेलर, हैपी सीडर, श्रेडो मल्चर और एमबी प्लाऊ के साथ खेतों में बखूबी इस्तेमाल करते हुए किसान फसल कचरे को जलाने के बदले उनका सदुपयोग कर सकते हैं। सीएनएच इंडस्ट्रियल इंडिया के कंट्री हेड और मैनेजिंग डायरेक्टर श्री कैब्रियले लुकानो ने बताया कि न्यूहॉलैंड एग्रीकल्चर 2006 से स्वच्छ ऊर्जा को बढ़ावा देने वाली प्रमुख वैश्विक कम्पनी है जो पर्यावरण प्रदूषण रोकने में अपनी अहम जिम्मेदारी समझती है।
न्यूहॉलैंड एग्रीकल्चर के सेल्स एवं मार्केटिंग डायरेक्टर, श्री बिमल कुमार ने कहा कि भारत में 90 प्रतिशत से अधिक के पुआल को खेतों में जलाया जाता है। फसल कचरे और डंठल जलाने के चलन को पूरी तरह रोक दिया गया है। हमारे नए साधनों की वजह से किसान पुआल जलाने के बदले उसे बेच कर अपनी आमदनी भी बढ़ा सकते हैं। न्यू हॉलैंड की संपूर्ण उत्पाद श्रृंखला में ट्रैक्टर से लेकर कटनी की मशीनें, सामान रखरखाव की मशीनें शामिल हैं और बड़ी बात यह भी कि कम्पनी कृषि कार्य की विशेषता के साथ हर किसान को जरूरत के हिसाब से ऋण की सुविधा भी उपलब्ध कराती है।

www.krishakjagat.org
Share

Leave a Reply

 Click this button or press Ctrl+G to toggle between multilang and English

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share