म.प्र. को मिला लगातार 5वां कृषि कर्मण पुरस्कार

गेहूं उत्पादन में अव्वल

मध्य प्रदेश को वर्ष 2015-16 के लिए गेहूं उत्पादन में श्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए लगातार 5वें कृषि कर्मण पुरस्कार से सम्मानित किया गया। यह पुरस्कार नई दिल्ली में आयोजित कृषि उन्नति मेले-2018 में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान को दिया।  पुरस्कार में प्रशस्ति पत्र, ट्रॉफी और 2 करोड़ की राशि प्रदान की गई। इस अवसर पर केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री राधामोहन सिंह, प्रदेश के कृषि मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन, प्रमुख सचिव कृषि डॉ. राजेश राजौरा एवं संचालक कृषि श्री मोहनलाल उपस्थित थे।

म.प्र. को 5वीं बार कृषि कर्मण पुरस्कार
कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने मध्यप्रदेश को वर्ष 2015-16 के लिए कृषि कर्मण पुरस्कार से नवाजा। मध्यप्रदेश का पुरस्कार मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने ग्रहण किया। मध्यप्रदेश को यह पुरस्कार दस लाख टन से अधिक गेहूँ के उत्पादन के क्षेत्र में प्रदान किया गया है। मध्यप्रदेश को लगातार पाँचवीं बार कृषि कर्मण पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।
कृषि विज्ञान केन्द्र दतिया पुरस्कृत
साथ ही सेन्ट्रल जोन के अंतर्गत मध्यप्रदेश के दतिया जिले के कृषि विज्ञान केन्द्र को उन्नत खेती और समग्र विकास के लिये पंडित दीनदयाल उपाध्याय कृषि विज्ञान प्रोत्साहन पुरस्कार से सम्मानित किया गया। यह पुरस्कार रा.सि.कृ.वि.वि. के कुलपति प्रो. एस.के. राव और डॉ. आर.के.एस. तोमर ने ग्रहण किया। प्रधानमंत्री श्री मोदी द्वारा प्रदेश के तीन जिले आगर-मालवा, सिंगरौली और अलीराजपुर में कृषि विज्ञान केन्द्र का शिलान्यास रिमोट से किया गया। प्रगतिशील किसानों की श्रेणी में मध्यप्रदेश के दो किसान जिला होशंगाबाद के पन्नारी गाँव की श्रीमती अरूणा जोशी को प्रति हेक्टेयर 104.60 क्विंटल और जिला नरसिंहपुर के कनवास गाँव के श्री नरेश पटेल को प्रति हेक्टेयर 99.8 क्विंटल गेहूँ उत्पादन के लिए पुरस्कृत किया गया। इस अवसर पर केन्द्रीय कृषि राज्य मंत्री श्री परषोत्तम रूपाला, श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, श्रीमती कृष्णा राज भी उपस्थित थीं।

www.krishakjagat.org
Share