सोयाबीन से लक्षित उत्पादन प्राप्त करने के लिये महत्वपूर्ण तकनीकी का उल्लेख करें।

समाधान – सोयाबीन का रकबा दिन पर दिन बढ़ता ही जा रहा है परंतु कोई ना कोई कारण से उत्पादकता उस मान से नहीं बढ़ पा रही है। कुछ बिन्दुओं से आपका परिचय जरूरी है।

  • बीज का अंकुरण परीक्षण करके ही बीज दर तय की जाये।
  • छंटाई/छनाई के बाद बीजोपचार फफूंदनाशी, कल्चर तथा पी.एस.बी. कल्चर से करना अनिवार्य बात होनी चाहिए।
  • बुआई के समय ही कतार छोड़ पद्धति का पालन किया जाये। 18 चांस वाली मशीन में अठाहरवी चांस कोरी बिना बोई रखी जाये ताकि अतिरिक्त जल का निथार, पौध संरक्षण कार्यों के लिये जगह तथा जरूरत पडऩे पर जीवन रक्षक सिंचाई के लिये जगह हो।
  • बीज खाद मिश्रण कदापि नहीं किया जाये। बीज उर्वरक के नीचे गिरे ऐसा प्रबंध करें।
  • संतुलित उर्वरक उपयोग करें स्फुर का उपयोग जरूरी होगा।
  • अंकुरण उपरांत खाली स्थानों पर बीज डालें तथा दो कोपलों की पक्षियों से रक्षा करें।
  • फिजियोलॉजीकल स्तर पर कटाई करें अर्थात् दाने की कड़ाई परखकर आंशिक हरी अवस्था में ही कटाई की जाये।

– अमर सिंह राठौर, सीहोर

www.krishakjagat.org
Share