औषधीय गुणों से भरपूर आंवला लगायें

www.krishakjagat.org

आँवला एक फल देने वाला वृक्ष है। यह करीब 20 से 25 फीट लम्बा झाड़ीदार वृक्ष होता है। भारत की जलवायु आँवले की खेती के उपयुक्त मानी जाती है। भारत में मुख्य रूप से आंवलें की खेती उत्तर प्रदेश, गुजरात, राजस्थान, तमिलनाडु, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, हरियाणा, महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, जम्मू-कश्मीर, पंजाब, उत्तराखण्ड, अरूणाचल प्रदेश, हिमाचल प्रदेश आदि राज्यों में होती है। भारत में उत्तर प्रदेश राज्य में सबसे ज्यादा आंवलें की खेती होती है और यहाँ प्रतापगढ़ आंवलें के लिए प्रसिद्ध हैै।
आँवले की खेती:-
भारत की जलवायु आंवले की खेती के लिए सबसे उपयुक्त मानी जाती है। आंवला उष्ण जलवायु का वृक्ष है पर इसे शुष्क प्रदेश और उपोष्ण जलवायु में भी सफलता पुर्वक उगाया जा सकता है। इसके वृक्ष लू और नाले से अधिक प्रभावित होती है। यह 0.45 डिग्री तापमान सहन करने की क्षमता रखता है। पुष्पन के समय गर्म वातावरण अनुकूल होता है।
बलुई भूमि के अतिरिक्त सभी प्रकार की मिट्टी में उसकी खेती भी की जा सकती है, लेकिन काली जलोढ़ मिट्टी को इसके लिए उपयुक्त माना जाता है। जिस प्रदेश में बारिस कम होती है और जहां की भूमि का पीएच मान 9 तक होता है। वहां आंवले की खेती की जा सकती है।

आँवला एक महत्वपूर्ण औषधीय गुणों से युक्त फल है। आँवले के उत्पादन में भारत का विश्व में पहला स्थान है। भारत में उत्तरप्रदेश में सबसे ज्यादा पैदावार और उत्पादन होता है। आँवला का उत्पादन 15-20 टन प्रति हेक्टेयर तक होता है। आँवला का साम्राज्य पादप विभाग मैगोलियोफाइटा, वर्ग मैंगोलियोफाइटा, जाति रिबीस, प्रजाति आरयुवा क्रिस्पा और वैज्ञानिक नाम रिबीस युवा क्रिस्पा है। यह आकार में छोटा और हरे रंग का फल है। इनका स्वाद खट्टा होता है। इस आयुर्वेद में अत्याधिक स्वास्थवर्धक माना गया। आँवले में विटामिन-सी सर्वोत्तम मात्रा में पाया जाता है और यह प्राकृतिक स्त्रोत है। इसमें विद्यमान विटामिन सी नष्ट नहीं होता है। यह भारी रूखा, शीत, अम्ल रस प्रधान, लवण रस को छोड़कर शेष पांचों रस वाला, रक्तपित्त व प्रमेह को हरने वाला, अत्याधिक धातुवद्र्धक और रसायन है।

आँवले के पौधे रोपन करने के लिए जून में 8-10 मीटर की दूरी पर 0.25 -0.30 मीटर के गड्ढ़ा खोद लेते हैं। यदि गड्ढ़े में कड़ी परत या कंकड़ हो तो उसे खोद कर अलग कर लें अन्यथा बाद में पौधे की वृद्धि पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। पौधों को वर्गाकार विधि में लगाते हंै। गड्ढ़े की भराई के समय गोबर की सड़ी खाद, नीम की खली का मिश्रण और गढ्ढ़े से निकाली हुई मिट्टी को मिलाकर कुछ ऊंचाई तक भरकर सिंचाई करते हैं। ताकि गड्ढ़े की मिट्टी अच्छी तरह से बैठ जाए इन्ही गड्ढ़ों में जुलाई से सितम्बर के बीच में या उचित सिचाई का प्रबंध होने पर जनवरी से मार्च के बीच में पौधे रोपण का कार्य किया जाता है। जनवरी से मार्च के बीच लगाए गए पौधे का उत्पादन ज्यादा अच्छा होता है। अत: कम से कम दो किस्म अवश्य लगाते हैं जो एक दूसरे के लिए परागणकर्ता का कार्य करती है। सामान्यत: पौधे को शीत ऋतु में 10 – 15 दिन के अंतर में और ग्रीष्म ऋतु में 7 दिन के अन्तर में सिंचाई करते है। आँवला के व्यावसायिक जातियों में चकिया, फ्रांसिस, कृष्णा, कंचन, नरेन्द आँवला 5,4,7 एवं गंगा, बनारसी उल्लेखनीय है। व्यवसायिक जातियों में चकिया एवं फ्रांसिस से काफी लाभ होता है।
आंवले में बीमारियां और समाधान:-
आँवला का पौधा और फल कोमल प्राकृतिक के होते है। इसलिए इसमें कीड़े आसानी से व जल्दी लग जाते हैं। आंवले की व्यवसायिक तौर पर खेती के दौरान यह ध्यान रखना चाहिए कि पौधे और फल को संक्रमण से रोका जाए। शुरूआती दिनों में इनमें लगे कीड़ों और उनके लार्वे को हाथ से हटाया जा सकता है। लेकिन इसकी अधिकता होने पर पोटेशियम सल्फाइट का छिड़काव करके कीटाणुओं और फफूंदियों का रोकथाम की जा सकती है। कई बार ऐसी समस्या आती है कि आंवले के वृक्ष में फल नहीं लगते हैं। इसके लिए जरूरी यह है कि जहां आंवला का वृक्ष हो उसके आसपास दूसरे आंवले का वृक्ष हो तभी उसमें फल लगते हैं।

      उपयोग/लाभ:-

  • आँवले से बहुत सारे रोगों से छुटकारा पाया जा सकता है। जैस दाद, खांसी, खास रोग, कब्ज, पाडु, रक्तपित्त, अरूचि, नेत्रदोष, दमा, क्षय, छाती के रोग, हृदय रोग, मूत्र, विकार आदि।
  • आँवला वीर्य को पुष्ट करके पौरूष शक्ति बढ़ाता हैै।
  • चर्बी कम कर मोटापा दूर करता है।
  • सिर के केशों को काला, लम्बा और धना रखता है।
  • दांत मसूड़ों की खराबी को दूर करता है।
  • आँवला का फल, पत्ती, तना सभी बहुत उपयोगी और लाभदायक होता है।
  • आँवले का उपयोग आचार, चूर्ण, कैंडी, मुरब्बा आदि बनाने में भी किया जाता है।
  • पंकज मिंज
  • कन्हैया लाल
  • किप्पू किरण सिंह
  • पीयूष प्रधान
    email: thakurkanhaiyalal@gmail.com

 

FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org
Share