लल्लू सिंह ने आधुनिक तकनीक से खेती को बनाया लाभ का धंधा

शहडोल जिले के सोहागपुर विकासखण्ड के ग्राम खेतौली के आदिवासी कृषक लल्लू सिंह ने खेती की आधुनिक तकनीकी अपनाकर खेती को लाभ का धंधा बनाया है। आदिवासी किसान लल्लू सिंह टमाटर, मिर्च, बैंगन की आधुनिक तकनीकी से खेती कर एक एकड़ भूमि से लगभग एक लाख से सवा लाख रूपये की आमदनी प्राप्त कर रहे हैं। आदिवासी किसान श्री लल्लू सिंह ने बताया कि वह खेती की नवीन तकनीकी सीखने के शुरू से ही जिज्ञासु थे तथा वे निरंतर कृषि वैज्ञानिकों और कृषि विभाग के अधिकारियों के सम्पर्क में रहकर उन्होने खेती की आधुनिक तकनीकी सीखी।
उन्होने बताया कि वह शहडोल जिले में किसानों द्वारा ली जा रही धान, गेहूं की परंपरागत फसलों के अलावा टमाटर, मिर्च, बैंगन की उद्यानिकी फसलों की भी खेती कर रहे हैं। उन्होने बताया कि वे उद्यानिकी विभाग के निरंतर सम्पर्क में रहे तथा उद्यानिकी विभाग के किसानों से ड्रिप सिंचाई पद्धति, मल्चिंग वर्मी, कम्पोस्ट इकाई, पैक हाउस, उद्यानिकी में यंत्रीकरण का उपयोग, पॉली हाउस, शेडनेट हाउस के संबंध में जानकारी लेकर खेती में इनका उपयोग किया। उन्होंने बताया कि वर्ष 2015-16 में ड्रिप एवं प्लास्टि मल्चिंग तकनीकी का उपयोग कर एक एकड़ में टमाटर एवं मिर्च की खेती की। जिससे मुझे 1 लाख रूपये से, 1 लाख 25 हजार रूपये तक की आमदनी प्राप्त हुई जिससे प्रेरित होकर मैंने 0.672 हेक्टेयर में बैंगन, टमाटर, मिर्च की खेती करने लगा हूँ। उन्होंने बताया कि मुझे प्रति एकड़ 1 लाख रूपये तक की आमदनी हो रही है, जिससे मेरी आर्थिक स्थिति काफी अच्छी हो गई है और समस्त कृषकों को संदेश देना चाहता हूं कि उद्यानिक फसलों की खेती नवीन तकनीकी के अनुसार करें जिससे उन्हें अच्छी आमदनी प्राप्त हो सके।

www.krishakjagat.org
Share