रमेशचंद्र परमार ग्राम-पटलावदा ने खेत में सोयाबीन किस्म 6124 लगाई है।

खरीफ फसलों की स्थिति बेहतर

शाजापुर। शुजालपुर विकास के कृषक जमीन की प्रकृति के अनुसार किस्मों का चयन करने लगे हैं। कृषक सुरेश पिता मोहनसिंह लववंशी झिरन्या ने जलभराव वाली अपनी 30 बीघा जमीन पर रेज्डबेड सीडड्रिल से सोयाबीन की आर.वी.एस. 2001-04 किस्म लगाई है। कृषक आनन्द कुमार खन्ना ग्राम- भ्याना जाधोपुर कृषि महाविद्यालय सीहोर से तीन क्विंटल प्रजनक बीज सोयाबीन आरवीएस 2001-04 अपने खेतों में लाकर बोया है। कृषक हरीकिशन पिता गिरवरसिंह राजपूत ताजपुर उकाला ने रेज्डबेड सीडड्रिल द्वारा सोयाबीन के साथ-साथ अलग से मक्का व अरहर की बोनी भी की है। कृषक रमेशचंद्र पिता नंदलाल परमार नि. ग्राम-पटलावदा ने अपने 4 एकड़ खेत में सोयाबीन की नई किस्म 6124 की बोनी की है। वर्तमान समय में उक्त किस्म की फसल अन्य की तुलना में बेहतर स्थिति में हैं। कृषक रसायनिक खाद व रसायनिक दवाओं का जमीन पर पडऩे वाले दुष्प्रभाव को समझने लगे हैं व जमीन गुणवत्ता पूर्ण बनी रहे व अधिक पैदावार देती रहे इस हेतु जैविक खाद की उपलब्धता के लिए बायोगैस संयंत्र व पक्के कम्पोस्ट गड्ढों का निर्माण करने लगे हैं व पशुधन रखकर खेती के साथ-साथ दुग्ध व्यवसाय कर अतिरिक्त लाभ कमा रहे हैं। अगर सभी किसान तकनीकी रूप से खेती करने लग जायें तो विश्वास के साथ कह सकता हूं कि समय पूर्व किसानों की आय दोगुनी हो सकती है।
प्रस्तुति : संतोष कुमार पवैया, ग्रा.कृ.वि.अधि. वि.ख. शुजालपुर,
मो. : 9926428022

www.krishakjagat.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share