जेके पास-पास से अधिक कपास

उत्पादक किसान को ईनाम

इंदौर। जे.के. एग्री जेनेटिक्स के हायब्रिड कपास सीड्स पास-पास की प्रतियोगिता के विजेता कृषक राजू सिरकरे को कम्पनी ने माइक्रोवेव ओवन प्रदान किया। टिटगांव खुर्द (बुरहानपुर) निवासी राजू सिरकरे ने इस अवसर पर कहा कि उन्होंने जे.के. पास-पास कपास की 4 फीट & 1.25 फीट दूरी पर बुआई की थी। इस फसल को तीन बार खाद और 4 बार स्प्रे दिया। 150 दिन में फसल तैयार हुई। प्रति एकड़ 18 क्विं. कपास उत्पादन हुआ। जे.के. पास-पास कम खर्च, कम श्रम के साथ कम से कम कम में तैयार होने वाली किसान हितैषी हाइब्रिड किस्म है। मैं इस साल भी जे.के. पास-पास की ही बोवनी करूंगा और अपने साथी किसानों को भी कहूंगा कि जे.के. पास-पास की बोवनी करें। जे.के. एग्री जेनेटिक्स हैदराबाद के रीजनल सेल्स मैनेजर श्री राजेन्द्र पाटीदार के अनुसार जे.के. पास-पास एकदम सीधे बढऩे वाली किस्म है जिस पर टिंडे भी सीधे पकते हैं। सघन बुआई की यह उत्कृष्ट प्रजाति है। इसकी टिंडे धारण करने की क्षमता भी तुलनात्मक रूप से ज्यादा है। बोल ओपनिंग और बस्टिंग में इसकी कोई सानी नहीं है। गुच्छे में टिंडे विकसित होते हैं जो पत्ता मरोड़ रोग के प्रति सहनशील होने से किसानों को अधिक उत्पादन मिलता है।

www.krishakjagat.org
Share