जैन इरिगेशन करेगा 125 करोड़ की माइक्रो सिंचाई परियोजना

www.krishakjagat.org
Share
‘जैन इरिगेशन सिस्ट्म्स लि. ने इसके पूर्व कर्नाटक, गुजरात, हिमाचल प्रदेश के साथ ही अन्य राज्यों में भी महत्वपूर्ण प्रकल्प क्रियान्वित किए हैं। यह प्रकल्प भी इसी श्रेणी की अगली कड़ी है। इस प्रकल्प क्षेत्र में आने वाले प्रत्येक किसान को पानी उपलब्ध होगा।’
अतुल जैन, संयुक्त प्रबंधक संचालक
जैन इरिगेशन सिस्टम्स लि.
  • 16 हजार एकड़ से अधिक रकबा
  • 5 हजार से अधिक किसानों को लाभ

जलगांव। बाघुर नदी का पानी किसानों को पाईप-लाईन से मिलेगा। जलगांव-महाराष्ट्र शासन की 125 करोड़ रु. लागत की राज्य की पहली ‘भविष्य प्रतिबद्ध सूक्ष्म सिंचन परियोजना जलगांव में क्रियान्वित होगी।’ प्रकल्प से 16 हजार 536 एकड़ में 5 हजार से अधिक कृषकों को लाभ प्राप्त होगा। इस प्रकल्प के टेंडर को भी स्वीकृति दी जा चुकी है। ई टेंडर की प्रक्रिया के द्वारा जैन इरिगेशन सिस्टम के चयन के बाद गत 11 नवंबर को कार्यादेश जारी हुआ।
बाघुर भादली कमांड व भादली दबाव -युक्तवाहिनी- ताप्ती जल सिंचन विकास निगम के, वाघुर भादली नहर एवं भादली दबाव युक्त जल वाहिनी वितरण माइक्रो सिंचाई प्रकल्प है। पारंपरिक पद्धति से निर्माण होने वाली भूअर्जन समस्या व प्रकल्प पूर्व होने में लगने वाले समय का विचार करते हुए महाराष्ट्र शासन ने पहला फ्यूचर रेडी माइक्रो इरिगेशन प्रोजेक्ट अर्थात् भविष्य प्रतिबद्ध सूक्ष्म सिंचन प्रकल्प में शुरूआत में कमांड क्षेत्र के समीप पम्प हाऊस का निर्माण करने दबाव युक्त एचडीपीई, पीवीसी पाईप का जल वितरण नेटवर्क का निर्माण करके जल, कृषक के खेत को मेढ़ तक पहुंचाने, विद्युत लाईन, सबस्टेशन, ट्रांसफार्मर केंद्र व जल ग्राहक संगठन की स्थापना, विभागीय अधिकारियों को प्रशिक्षण के साथ ही 5 वर्ष तक रखरखाव आदि काम इस परियोजना में होने हंै। पानी का उपयोग 50 प्रतिशत अधिक क्षेत्र में हो सकेगा। इस प्रकल्प के क्रियान्वयन में पाईप डिस्ट्रीब्यूशन नेटवर्क (पीडीएन) व भूसतह पर सूक्ष्म सिंचन (ड्रिप स्प्रिंकल्र्स) प्रणाली का उपयोग कर कमांड क्षेत्र के 50-55 प्रतिशत पानी के उपयोग से कार्य क्षमता में वृद्धि होगी। परिणामत: किसानों को पानी अधिक प्रमाण में प्राप्त होगा।

 

 

www.krishakjagat.org
Share

Leave a Reply

 Click this button or press Ctrl+G to toggle between multilang and English

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share