प्रोपेल नरवाई को बदले खाद में

इन्दौर। ट्रॉपिकल एग्रो सिस्टम (इं.) प्रा. लि. का आर्गेनिक बेस्ट डी-कम्पोजर कल्चर फसल के अवशेषों को खेत में ही सड़ाकर खाद के रूप में परिवर्तित कर देता है। वर्तमान में रबी फसल की कटाई के बाद खेतों में खड़ी नरवाई को नष्ट करना किसान के लिए एक विकट समस्या हो गई है। इसे किसी भी तरह से नष्ट करना किसान के लिए एक महंगा और समय नष्ट करने वाला कार्य बन गया है। इसका सबसे आसान तरीका है कि इसे खेत में ही सडऩे दिया जाये, लेकिन इस प्रक्रिया में अधिक समय लगता है साथ ही शत-प्रतिशत नरवाई नष्ट नहीं हो पाती।
किसानों की इस समस्या के हल के रूप में ट्रॉपिकल एग्रो का आर्गेनिक वेस्ट डी-कम्पोस्जर प्रोपेल एक कारगर उपाय है। इसके अन्दर ऐसे सूक्ष्म जीवों का मिश्रण है जो सडऩे की क्रिया को तेज करते हैं। सूक्ष्म एन्जायम, सेल्युलोस, स्टार्च, फीनोल व लिग्निन पाचक आदि फसल अवशेषों को सड़ाने में मदद करते हैं।

खेत में उपयोग का तरीका व मात्रा

एक एकड़ के लिए 2 कि.ग्रा. प्रोपेल को 200 लीटर पानी या गोबर के घोल में घोलकर फसल अवशेषों पर स्प्रे करें। खेत जुताई कर सिंचाई द्वारा नमी बनाये रखें। खाद बनने में 45-50 दिन लगेंगे।

www.krishakjagat.org
Share