मैं केले की खेती करना चाहता हूं, कब लगाना होगा। अच्छी कंद के लिये कहां सम्पर्क करें, विस्तार से बतायें।

समाधान- आप केला लगाना चाहते हैं, केला लगाने के लिये दो मौसम मुख्य रूप से होते हैं। एक मृग बहार जो अप्रैल-मई में होता है, दूसरा कांदा बहार जो अक्टूबर में होता है। आप निम्न तकनीकी अपनायें-

  • जातियों में ड्वार्फ कैबेनिडस एवं रोनस्ट्रा।
  • मृग बहार की फसल को लम्बी ठंडक तथा पाला इत्यादि का सामना नहीं करना होता है। इसका कारण कांदा बहार की तुलना में कम उत्पादन मिलता है। 1.5&1.5 मीटर दूरी पर लगाने से 4444 कंद 1.8&1.8 मीटर दूरी पर लगाने से 3086 कंद तथा 2.1&2.1 मीटर दूरी पर लगाने से 2207 कंद प्रति हेक्टर की जरूरत पड़ती है।
  • रोवस्टा/ ड्वार्फ कैबेन्डिस को यदि 1.5&1.5 मीटर पर लगायें तो 120 टन प्रति हे.तक उत्पादन मिल सकता है।
  • उर्वरकों में रोपण के 5-6 माह के भीतर 260 ग्राम यूरिया 250 ग्राम सिंगल सुपर फास्फेट, 167 ग्राम म्यूरेट ऑफ पोटाश प्रति पौध दिया जाये।
  • सिंचाई प्राय: हर दिन लगती है। इस कारण ड्रिप सिंचाई को अपनाना जरूरी होगा।

– घनश्याम चौधरी, बुरहानपुर

www.krishakjagat.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share