प्रदेश में 984 गांव पर ओलों की मार

www.krishakjagat.org

गेहूं, चना, सरसों एवं कपास फसल प्रभावित

(विशेष प्रतिनिधि)
भोपाल। प्रदेश में गत दिनों हुई ओलावृष्टि से 984 गांव की फसलें प्रभावित हुई हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि नुकसान का आकलन कर किसानों को शीघ्र राहत पहुंचायी जाएगी। उन्होंने कहा कि नुकसान का सर्वे करने वाले दल में कृषि, राजस्व, पंचायत विभाग के साथ-साथ पंच-सरपंच भी शामिल होंगे जिससे पारदर्शिता बनी रहे। उन्होंने निर्देश दिया कि आकलन को पंचायत भवन एवं सार्वजनिक स्थानों पर चस्पा किया जाएगा।
जानकारी के मुताबिक प्रदेश के 13 जिले ओलावृष्टि की चपेट में आए हैं। इसमें सबसे अधिक नुकसान भोपाल, होशंगाबाद, सीहोर, देवास, विदिशा-सिवनी, छिंदवाड़ा और बालाघाट में होने का अनुमान है। इन जिलों में गेहूं, चना, कपास एवं सरसों की फसलों को नुकसान हुआ है।
मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह ने भी वीडियो कांफ्रेंस में जिला कलेक्टरों को फसल हानि का सावधानी पूर्वक सर्वे कराने का निर्देश दिया है।

किसानों को कितनी राहत मिलेगी

  • 13 जिलों में 984 गांव प्रभावित।
  • कृषि, राजस्व एवं पंचायत विभाग का सर्वे दल गठित।
  • फसल बीमा के साथ मिलेगी राहत राशि।
  • लघु एवं सीमांत किसानों को अब 50 प्रतिशत से अधिक फसल हानि होने पर सिंचित फसल के लिए 30 हजार रुपये और असिंचित फसल के लिए 16 हजार रुपए प्रति हेक्टेयर की दर से राहत दी जाएगी।
  • अन्य कृषक 2 हेक्टेयर से अधिक भूमि धारित कृषकों को सिंचित के लिए 27 हजार और असिंचित के लिए 13 हजार रु. प्रति हेक्टेयर राहत राशि देने का प्रावधान किया गया है।

 

FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org
Share