फूलों से बदली मुन्नी बाई की तकदीर

www.krishakjagat.org

प्रदेश सरकार खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिये प्रतिबद्ध है तथा प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने इस तारतम्य में कई ऐतिहासिक निर्णय लिये हैं। इस दिशा में कृषि के साथ ही उद्यानिकी फसलों से भी किसानों को आय के अतिरिक्त स्रोत पैदा करने के प्रयास किये जा रहे हैं। उद्यानिकी विभाग उद्यानिकी फसलों की खेती के लिये किसानों को लगातार प्रेरित कर रहा है जिससे वे अतिरिक्त आय प्राप्त कर आर्थिक रूप से सक्षम हो सके। उद्यानिकी विभाग की पहल और मार्गदर्शन जिले के विकासखंड मोहखेड के ग्राम सिंगपुर की महिला कृषक श्रीमती मुन्नी बाई पति स्व. श्री रमेश भोण्डेकर के लिये आर्थिक समृद्धि की एक नई सौगात लेकर आई है तथा फूलों की खेती से उनकी तकदीर और तस्वीर दोनों ही बदल गई है।
ग्राम सिंगपुर की महिला कृषक श्रीमती मुन्नी बाई के पास लगभग 4 एकड़ कृषि भूमि है जिसमें उनके पति सोयाबीन, मक्का, गेहूं आदि की खेती करते थे जिससे परिवार का भरण-पोषण होता था। उनके पति की मृत्यु के बाद उन्होंने अपने बच्चो के साथ स्वयं ही खेती करने का निर्णय लिया जिससे उनकी आर्थिक स्थिति कमजोर न हो सके। उन्होंने उद्यानिकी विभाग की सलाह और मार्गदर्शन में एक एकड़ भूमि में पॉली हाउस का निर्माण कराकर उसमें 40 हजार गुलाब के फूलों की डचरोज किस्म के पौधे लगाये और इन फूलों की खेती प्रारंभ की। इस कार्य में लगभग 45 लाख रूपये की लागत आई। उन्हें 90 दिन के बाद से फूलों का उत्पादन मिलना प्रारंभ हो गया है और इन फूलों की बिक्री भी शुरू हो गई है। उनके खेत से स्थानीय व्यापारी फूल क्रय कर रहे है तथा उनके माध्यम से दिल्ली तक गुलाब के फूल भेजे जा रहे है। इस प्रोजेक्ट को अभी छ: माह ही हुये है और इस अवधि में 20 से 25 लाख रूपये की आय इन फूलों से हो चुकी है। उनके खेत के फूलों की सुंदरता और खुशबू ने व्यापारियों के साथ ही अन्य लोगों को आकर्षित कर रही है जिससे फूलों की बिक्री लगातार बढ़ रही है तथा उन्होंने भविष्य में एक और पॉली हाउस बनाने का निर्णय ले लिया है। उन्होंने ड्रिप सिंचाई द्वारा मसाले वाली फसल लहसुन की बोनी भी की थी जिसमें कम पानी में उन्हें अधिक उत्पादन मिला है। वे इस फसल की बिक्री से भी आय प्राप्त कर रही हैं। उद्यानिकी फसलों ने उनके जीवन में बदलाव ला दिया है और वे अन्य उद्यानिकी फसलों की खेती करने के लिये भी तैयार हो गई है तथा उद्यानिकी विभाग से सलाह और परामर्श ले रही है।

FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org

Leave a Reply

 Click this button or press Ctrl+G to toggle between multilang and English

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share