फफूंद की रोकथाम की रामबाण दवा -कस्टोडिया

इंदौर। विश्वस्तरीय कीटनाशक उत्पादक कम्पनी अदामा इंडिया लिमिटेड ने फसल संरक्षण के तहत फफूंदनाशक उत्पाद कस्टोडिया किसानों को उपलब्ध कराया है। कम्पनी के अनुसार यह उत्पाद सभी फसलों के फफूंदजनित रोगों के लिए रामबाण दवा है।
इस बारे में अदामा इण्डिया के जीएम श्री अविनाश पाण्डे ने बताया कि हमारे देश में कई फसलें फफूंदजनित रोगों के कारण खराब हो जाती है। इस कारण किसानों को अपनी फसल का उचित दाम नहीं मिल पाता है। गहन शोध और परीक्षण के बाद सामने आया कस्टोडिया नामक यह चमत्कारिक उत्पाद विभिन्न फसलों जैसे मिर्च, अंगूर ,प्याज, टमाटर, धान, आलू, गेहूं और दलहन में लगने वाले फफूंदजनित विभिन्न रोगों पर प्रभावी नियंत्रण करता है। कई किसान इसका उपयोग कर गुणवत्तायुक्त फसल पैदा करके बढिय़ा लाभ कमा रहे हैं।
कम्पनी के नव नियुक्त एजीएम श्री सुजीत पंचारिया ने कस्टोडिया की कार्यविधि का खुलासा करते हुए बताया कि यह उत्पाद फफूंद की श्वांस क्रिया और इरगोस्टीरोल संश्लेषण दोनों को एक साथ बाधित कर रोकता है। यदि इसका छिड़काव बीमारी के पूर्व कर दिया जाए तो यह फफूंद के अंग मायसीलियम को बढऩे नहीं देता है और पौधों की ऊर्जा संरक्षण में भी सहयोग करता है। चूँकि कस्टोडिया बहुआयामी उत्पाद है इसलिए इसकी दोहरी क्रिया प्रणाली यानी अंतर्प्रवाही और ट्रांसलेमिनार बीमारियों को नियंत्रित कर फफूंद का तो खात्मा करती ही है, साथ ही इसका असर लम्बे समय तक बने रहने से फफूंदों की प्रतिरोध क्षमता को पैदा ही नहीं होने देता है। इसका छिड़काव 15 -20 दिन में फिर करने से अच्छे नतीजे मिलते हैं। इसीलिए कस्टोडिया को एक शक्तिशाली फफूंदनाशक उत्पाद माना गया है जो कई बीमारियों से भी निजात दिलाता है। कस्टोडिया का उपयोग कर किसान भाई कम खर्च में अधिक लाभ कमा सकते हैं।
अधिक जानकारी के लिए सम्पर्क करें मो. : 7869950155

www.krishakjagat.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share