कृषक विज्ञान केंद्र में – गृह वाटिका पर महिलाओं को प्रशिक्षण

www.krishakjagat.org

पन्ना। विगत दिवस पोषण गृह वाटिका पर कृषक महिलाओं को डॉ. बी.एस. किरार, वरिष्ठ वैज्ञानिक, डॉ. आर.के.सिंह, डॉ.के.पी.द्विवेदी एवं सुशील शर्मा, म.प्र. राज्य अजीविका मिशन द्वारा विस्तार से प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण में म.प्र. राज्य अजीविका मिशन द्वारा समूह की महिलाओं को लाया गया। प्रशिक्षण में डॉ. बी.एस. किरार ने बताया कि घर के आसपास उपलब्ध भूमि को ठीक से गुड़ाई करके 8-10 क्यारियाँ बना लें। उनमें मौसमानुसार सब्जियाँ लगायें अभी बरसात में भिण्डी, मिर्च, बैंगन टमाटर, मूली, पालक, धनियाँ, करेला, खीरा, लौकी एवं तौरई आदि लगायें। वाटिका के चारों तरफ फलदार पौधें लगायें। डॉ. के.पी.द्विवेदी ने पोषण वाटिका में लगाई जाने वाली सब्जियों में रसायनिक उर्वरक एवं दवाओं का प्रयोग नहीं करने की सलाह दी। गोबर खाद, जैव उर्वरक एवं जैविक कीटनाशकों का प्रयोग करना चाहिए। श्री सुशील शर्मा द्वारा महिलाओं को भू नाडेप एवं वर्मी कम्पोस्ट से उच्च गुणवत्ता का खाद बनाने की तकनीक पर विस्तार से जानकारी दी गयी।

FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org
Share