घर बैठे मोबाइल से चला रहे हैं किसान खेत के पम्प

घर से एक डेढ़ किलोमीटर खेत में वक्त बेवक्त सिंचाई पंम्प चालू बंद करना परेशानी का सबब था। सोडलपुर के शिव गहलोद ने सोलर पम्प को घर बैठे मोबाइल से आपरेट कर इस झंझट से मुक्ति पा ली है। ऊर्जा पम्प योजना ने किसानों को डिजिटली हाईटेेक बना दिया है। हरदा जिले में टिमरनी क्षेत्र के किसान अब सौर ऊर्जा प्लेटों को एन्ड्रॉइड मोबाइल फोन से घर बैठे ही आपरेट करते हैं। यहाँ के किसान रामचन्द्र गहलोत, नारायण साँखला, रामकृष्ण भाटी और हरिओम सोलंकी गर्मी के इस मौसम में मूंग की फसल को घर से सोलर पम्प चलाकर भरपूर पानी दे रहे हैं। ये किसान फसल को पानी देने के लिये घर से ही एन्ड्रॉइड मोबाइल फोन से सोलर पम्प को चालू करते हैं, बन्द करते हैं। किसानों ने यह नवाचार कर खेती में समय, श्रम और धन बचाने का सफल प्रयोग किया है।
सोलर ऊर्जा का प्रयोग
हरदा जिले की टिमरनी तहसील के सोडलपुर गांव के रामचन्द्र गेहलोत और नारायण सांखला ने मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना 5 एचपी डीसी सबमर्सिबल की लागत 453680 पर 85 प्रतिशत अनुदान, 385628 काटकर हितग्राही कृषक अंश 68052 जमा कर योजना का लाभ लिया एवं सोलर ऊर्जा से बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित की है। सोलर प्लेट से बिजली पैदा कर इन किसानों ने बिजली कटौती और दूरस्थ क्षेत्र में बिजली लाइन और ट्रांसफार्मर जलने जैसी समस्याओं से मुक्ति पाई है। सोलर प्लेट से 300 वॉट बिजली पैदा होती है। पाँच हार्स पॉवर की मोटर से 8 से 9 घंटे लगातार आसानी से पानी लेने के लिये किसानों ने 16 प्लेट की इकाई लगाई है। एक इकाई से 4800 वॉट बिजली मिलती है। एक बार सोलर इकाई लगाने के बाद 25 वर्ष तक निर्बाध बिजली मिलेगी।
अधिक जानकारी के लिए श्री नारायण सांखला के मो. : 9926765021 पर संपर्क करें।

www.krishakjagat.org
Share