किसान को गेहूं की कीमत 2000 रुपए क्विंटल मिलेगी

www.krishakjagat.org

किसान महासम्मेलन में मुख्यमंत्री की घोषणा

किसान को रबी में समर्थन मूल्य पर खरीदे जाने वाले गेहूं की कीमत 2000 रुपये क्विंटल मिलेगी। यह घोषणा मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में आयोजित किसान महासम्मेलन में की। उन्होंने कहा कि 1735 रु. क्विंटल गेहूं का समर्थन मूल्य भारत सरकार ने घोषित किया है। इस पर राज्य सरकार मुख्यमंत्री उत्पादकता प्रोत्साहन योजना के तहत 265 रुपये प्रति क्विंटल की राशि पंजीकृत कृषकों के खाते में उपलब्ध कराएगी जिससे उसकी कीमत 2000 रु. प्रति क्विंटल हो जाएगी। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने घोषणा करते हुए कहा कि गत वर्ष खरीफ में धान एवं रबी में गेहूं की हुई समर्थन मूल्य पर खरीदी में पंजीकृत कृषकों को 200-200 रुपये की राशि प्रति क्विंटल अतिरिक्त रूप से दी जाएगी।

मुख्यमंत्री ने महासम्मेलन में कई कृषक हितैषी घोषणाएं की। उन्होंने कहा कि अगले 5 वर्षों में 1 लाख करोड़ की राशि से सिंचाई सुविधाएं बढ़ाई जाएगी। उन्होंने कहा कि फसल बीमा और फसल नुकसान का मुआवजा एकसाथ दिया जाएगा। महासम्मेलन में मुख्यमंत्री ने भावांतर भुगतान योजना के तहत दिसम्बर माह में की गई उपज विक्रय का भावान्तर 620 करोड़ की राशि का एक क्लिक कर भुगतान किया तथा प्रमाण-पत्र वितरित किए।

श्री शिवराज सिंह ने घोषणा करते हुए कहा कि किसान अब 30 अप्रैल तक जीरो प्रतिशत ब्याज दर पर ऋण ले सकेंगे। पूर्व में यह तिथि 31 मार्च तय थी। उन्होंने कहा कि क्रेडिट कार्ड को रूपे कार्ड में बदला जाएगा तथा 4530 सहकारी समितियों में माइक्रो एटीएम मशीन लगाई जाएगी जिससे किसान को पैसा निकालने में आसानी होगी। पशु आहार के लिए 50 हजार तक का ऋण देने के साथ-साथ विद्यासागर पशुपालन योजना में 1500 की जगह अब 15 हजार किसानों को लाभ दिया जाएगा। बटाई पर खेती करने वाले कृषकों को भी सभी योजनाओं का लाभ मिलेगा। विद्युत ट्रांसफार्मर लगने के तीन माह के भीतर जलने पर बिना चार्ज लिए उसे बदला जाएगा।

मुख्यमंत्री ने भण्डारण योजना की घोषणा की। उन्होंने कहा कि अब किसान 4 माह तक वेयरहाऊस में उपज का भण्डाण कर सकेंगे। पैसे की आवश्यकता पडऩे पर उपज का 25 फीसदी पैसा ले सकेंगे। इस पर ब्याज सरकार देगी। उन्होंने कहा कि राज्य की 150 मंडियों में फसल भाव डिस्प्ले किए जाएंगे साथ ही 50 मंडियों में ग्रेडिंग और पैकेजिंग प्लांट लगाए जाएंगे।

FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org
Share