कृषि क्षेत्र में सार्थक योगदान के लिए – महिंद्रा ने किया कृषकों का सम्मान

www.krishakjagat.org

  8वां महिन्द्रा समृद्धि इंडिया एग्री अवार्ड्स 2018
  • फसलों की उत्पादकता और किसानों की समृद्धि में योगदान देने वालों को सम्मानित किया गया।
  • मशीनीकरण के क्षेत्र में किसानों के नवाचारों को भी पुरस्कृत किया गया।
  • किसानों की आय दुगुनी करने और 3.0 फार्मिंग के युग में योगदान देकर यह अवॉर्ड कृषि समृद्धि को बढ़ावा दे रहे हैं।
  • फार्मिंग 3.0 को लेकर अपनी प्रतिबद्धता के हिस्से के रूप में, माइएग्रीगुरु, ट्रिंगो सहित कई प्रमुख नवाचारों में अग्रणी महिन्द्रा।

(विशेष प्रतिनिधि)
नई दिल्ली। भारत के अग्रणी ट्रैक्टर निर्माता, महिन्द्रा एंड महिन्द्रा के फार्म इक्विपमेंट सेंटर ने महिन्द्रा समृद्धि इंडिया एग्री अवॉर्ड्स (एमएसआईएए) 2018 के विजेताओं को एक गरिमामय समारोह में देश की राजधानी में सम्मानित किया।
इन पुरस्कारों की शुरुआत 2011 में की गई थी। महिन्द्रा समृद्धि इंडिया एग्री पुरस्कार कृषि के क्षेत्र में उल्लेखनीय और सार्थक योगदान देने वाले किसानों और कृषि संस्थानों को सम्मानित करने के लिए दिए जाते हैं।
महिन्द्रा ने समृद्धि अवॉड्र्स के प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल फार्मिंग 3.0 को लेकर अपनी प्रतिबद्धता जताने के लिए लिया, यह भारतीय कृषि में नया युग है जिसे तकनीक और नवाचारों से पारिभाषित किया जा सकेगा। पिछले साल 7वें समृद्धि अवॉड्र्स के मौके पर लांच की गई फार्मिंग 3.0 का लक्ष्य नई पहलों के माध्यम से कृषि को स्थिर बनाना है, जो कि सामाजिक और पर्यावरण के परिपेक्ष्य में उत्पादकता और अर्थशा का संतुलन बनाकर रखेंगी। केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री राधामोहन सिंह इस पुरस्कार समारोह के मुख्य अतिथि थे।

नई दिल्ली के होटल अशोका में आयोजित सम्मान समारोह में महिन्द्रा एग्री साल्यूशंस के एमडी एवं सीईओ श्री अशोक शर्मा से चर्चा करते हुए कृषक जगत के सम्पादक श्री सुनील गंगराड़े।

लाइफ टाईम अचीवमेंट अवॉर्ड
महिन्द्रा समृद्धि कृषि शिरोमणि सम्मान (लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड) 2017 डॉ. दीपक पेंटल को सरसों और कपास की खेती में शोध और विकास के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए प्रदान किया गया और 5 लाख रु. की नगद राशि प्रदान की गई।
श्री आनन्द महिन्द्रा
इस अवसर पर महिन्द्रा ग्रुप के एक्जीक्यूटिव चेयरमैन श्री आनन्द महिन्द्रा ने कहा कि महिन्द्रा समृद्धि इंडिया एग्री अवॉड्र्स अपने सच्चे नायकों को पहचानने का एक विनम्र प्रयास है। भारत में बदलाव लाने के सबसे बड़े वाहकों- हमारे किसान और कृषि संस्थानों के अथक प्रयासों का जश्न मनाते हुए मुझे बेहद खुशी हो रही है।
महिन्द्रा एंड महिन्द्रा लि. के प्रबंध निदेशक डॉ. पवन गोयनका ने बताया कि पिछले कई सालों से महिन्द्रा समृद्धि इंडिया एग्री अवॉड्र्स भारतीय किसानों और कृषि संस्थानों को कृषि क्षेत्र में विभिन्न योगदान देने के लिए उनके अदम्य उत्साह को सम्मानित करते हैं।
डॉ. गोयनका ने आगे कहा कि 32 से अधिक सालों से भारत का प्रमुख ट्रैक्टर निर्माता होने के नाते, महिन्द्रा फार्मिंग 3.0 के प्रति प्रतिबद्ध है। यह फार्मिंग के नए युग की शुरुआत है, जिसमें कृषि के पूरे पारिस्थितिकी तंत्र को बेहतर बनाने के लिए नई और उन्नत तकनीकों की पूरी रेंज शामिल है। जैसे हम किसानों के नए युग की ओर बढ़ते जा रहे हैं, वैसे-वैसे यह विश्वास गहरा हो रहा है कि भारत और विश्व भर में खेती के तौर-तरीकों में व्यापक बदलाव आने वाला है। महिन्द्रा में हम कृषक समुदायों को महिन्द्रा कृषि एग्री अवॉड्र्स जैसी कई अन्य पहलों से प्रोत्साहित करते रहेंगे।
श्री अशोक शर्मा
महिन्द्रा एग्री साल्यूशंस के एमडी एवं सीईओ श्री अशोक शर्मा ने महिन्द्रा फार्मिंग 3.0 के बारे में विस्तार से जानकारी दी। आपने किसानों के लिए विभिन्न भाषाओं में कंपनी द्वारा लांच किए गए इंटरएक्टिव ‘एप’ के बारे में बताया जिससे किसानों की समस्याओं का शीघ्र समाधान हो सके।

महिन्द्रा समृद्धि इंडिया एग्री लीडरशिप अवार्ड्स  2018 के राष्ट्रीय विजेता
महिन्द्रा समृद्धि कृषि सम्राट सम्मान – श्री हीरामन शर्मा (5 एकड़ से कम),
– श्री मदनलाल देवड़ा (5-20 एकड़),
– इशाक अली (20 एकड़ से अधिक)
महिन्द्रा समृद्धि कृषि प्रेरणा सम्मान – श्रीमती अनु त्यागी
महिन्द्रा समृद्धि कृषि युवा सम्मान – श्रीमती सुशीला टुडू
महिन्द्रा समृद्धि कृषि यंत्रीकरण सम्मान – श्री गिल्ला रविकरिण गौड़
महिन्द्रा समृद्धि कृषि संस्थान सम्मान – सेंट्रल पोटैटो रिसर्च स्टेशन पटना
महिन्द्रा समृद्धि कृषि शिक्षा सम्मान – डिपार्टमेंट ऑफ बायोटेक्नालॉजी जूनागढ़  एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी गुजरात
महिन्द्रा समृद्धि कृषि सहयोग सम्मान – श्री सेध्या रेथु सेवा संस्था पेरापल्ली, तेलंगाना
महिन्द्रा समृद्धि कृषि विज्ञान केन्द्र सम्मान – कृषि विज्ञान केन्द्र बाड़मेर, राजस्थान

 

FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org
Share