नकली बीजों का बाजार फिर गरम

कपास के नकली बीज पकड़ाए

कम्पनी के अधिकारियों का स्टिंग आपरेशन

इन्दौर। प्रदेश में एक बार फिर नकली बीजों के माफिया ने सिर उठाना शुरू कर दिया है। हालांकि शासन समय-समय पर नकली बीज व्यवसायियों पर नकेल कसने के लिए प्रशासन को निर्देश देता रहता है किन्तु अधिकारियों को उदासीनता और लापरवाही के चलते माफिया के हौसले हर बार सीजन में बुलंद होते हैं। इस बार तो हालात ये हैं कि बीज कम्पनियों के अधिकारियों को स्टिंग ऑपरेशन कर नकली बीज व्यवसायियों पर कार्यवाही के लिए अधिकारियों से अनुरोध करना पड़ रहा है। इसके वाबजूद कोई कानूनी कार्यवाही न करके सिर्फ खानापूर्ति की जा रही है।
हाल ही में अजीत सीड्स कम्पनी के जोनल मैनेजर श्री राजकुमार सिंह तथा एरिया मैनेजर श्री मनोज पाटीदार ने बुरहानपुर में बोरी बुजुर्ग के शाकंबरी ट्रेडर्स के यहां स्टिंग ऑपरेशन के जरिये अपनी कम्पनी के नकली कपास बीज जब्त करवाये। अधिकारियों द्वारा ग्राहक के रूप में दुकानदार से खरीदे गये कपास बीज का बिल मांगे जाने पर कच्चा बिल दिया गया। इसके बाद कृषि विभाग के अधिकारियों से शिकायत करने पर तीन दिन बाद विभागीय अधिकारियों ने कार्यवाही की। कार्यवाही के दौरान अधिकारियों ने स्टॉक का पंचनामा बनाकर दुकान सील कर दी है तथा सेंपल जांच के लिए भेज दिये गये हैं।


हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी खरीफ सीजन प्रारंभ होते ही नकली बीजों का गोरखधंधा फिर प्रारंभ हो गया है लेकिन प्रशासनिक अमला अभी तक सजग नहीं हुआ है। जब तक प्रशासन नकली बीजों के विरुद्ध अभियान छेड़ेगा तब तक इस गोरखधंधे के कर्ता-धर्ता गायब हो चुके होंगे।

नकली बीज के पैकेट 700 रु. में बेच रहे हैं जबकि असली बीज की कीमत 740 रु. प्रति पैकेट है। यह किसानों के साथ धोखा है। इस पर एफआई दर्ज होना चाहिए।

– श्री राजकुमार सिंह
जोनल मैनेजर,
अजीत सीड्स

www.krishakjagat.org
Share