आय बढ़ाने एकीकृत फसल प्रणाली अपनाएं

विदिशा। नीति आयोग भारत सरकार द्वारा चयनित महत्वाकांक्षी जिला विदिशा के ग्राम- महुथा विकासखण्ड- नटेरन में कृषि कल्याण अभियान अन्तर्गत कृषक प्रशिक्षण का आयोजन कृषि विज्ञान केन्द्र, रायसेन व परियोजना संचालक आत्मा, विदिशा द्वारा संचालित किया गया। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में विदिशा जिले के नोडल अधिकारी डॉ. सोमिन शाह वरिष्ठ वैज्ञानिक व प्रमुख डॉ. स्वप्निल दुबे, कृषि वैज्ञानिक डॉ. सर्वेश त्रिपाठी, उद्यान अधीक्षक श्री जी.एस. मरावी, पशुपालन विभाग से डॉ. जैन, आत्मा परियोजना के श्री नरेन्द्र रघुवंशी व सरपंच श्री फलीराम शर्मा प्रमुख रूप से उपस्थित थे।
कृषि कल्याण अभियान अन्तर्गत मृदा स्वास्थ्य कार्ड, दलहनी फसलों की मिनीकिट, फलदार पौधे, नाडेप पिट, पशुओं में टीकाकरण, बकरियों में टीकाकरण, कृत्रिम गर्भाधान, उन्नत कृषि यंत्र, एकीकृत फसल उत्पादन तकनीक पर चर्चा की गई। वैज्ञानिक डॉ. स्वप्निल दुबे द्वारा एकीकृत फसल प्रणाली अन्तर्गत उन्नत उत्पादन तकनीक, सोयाबीन की मेढ़ नाली पद्धति, अरहर की धारवाड़ पद्धति, फल बगीचा, फूलों की खेती, पशुपालन, मुर्गीपालन, मशरूम उत्पादन, मधुमक्खी पालन आदि तकनीकों पर तकनीकी जानकारी दी गई।
वैज्ञानिक डॉ. सर्वेश त्रिपाठी द्वारा जैविक खेती अन्तर्गत भू-नाडेप, टटिया नाडेप, केंचुआ खाद के उत्पादन सम्बन्धी जानकारी दी गई। प्रशिक्षण में आये हुए कृषकों ने नाडेप पिट से खाद बनाकर उपयोग करने की सलाह को माना।

www.krishakjagat.org
Share