राज्य में दलहनी फसलों पर जोर : श्री मोहन लाल – प्रदेश में रबी बोनी 60 लाख हेक्टेयर पहुंची

(अतुल सक्सेना)
भोपाल। म.प्र. में सिंचित गेहूं की बोनी तेजी से चल रही है। अब तक कुल रबी फसलों की बुवाई 60 लाख हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में कर ली गई है। कम वर्षा की स्थिति को देखते हुए इस रबी में गेहूं का रकबा लगभग 9 लाख हेक्टेयर कम किया गया है। जबकि चना, मसूर एवं सरसों का रकबा बढ़ाया गया है। प्रदेश में दलहनी फसलों पर विशेष जोर दिया जा रहा है। गत खरीफ में भी उड़द के रकबे में बेतहाशा वृद्धि हुई थी। यह जानकारी प्रदेश के संचालक कृषि श्री मोहनलाल ने कृषक जगत को एक विशेष मुलाकात में दी।

संचालक कृषि से कृषक जगत की बातचीत

संचालक कृषि ने बताया कि भूमि में उपलब्ध नमी का भरपूर लाभ लेते हुए प्रदेश के किसानों ने अब तक 59.59 लाख हेक्टेयर में बोनी कर ली है जबकि गत वर्ष इस समय तक 35.23 लाख हेक्टेयर में बोनी की गई थी। उन्होंने बताया कि गत वर्ष 64.22 लाख हेक्टेयर में गेहूं बोया गया था जिसे इस वर्ष कम वर्षा को देखते हुए 56 लाख हेक्टेयर किया गया है। वैसे प्रदेश में गेहूं का सामान्य क्षेत्र 55 लाख हेक्टेयर है। इस वर्ष 56 लाख हेक्टेयर के विरूद्ध अब तक 18.53 लाख हेक्टेयर में बुवाई कर ली गई है।

 प्रदेश में बुवाई की स्थिति (लाख हे. में)
फसल लक्ष्य बुवाई
गेहूं 55.96 18.53
चना 36.02 25.19
मटर 6.09 2.45
मसूर 7.56 4.58
सरसों 8.35 6.46
गन्ना 0.75 0.26

श्री मोहनलाल ने बताया दलहनी और तिलहनी फसलों के रकबे में वृद्धि की गई हैं। गत वर्ष 32.22 लाख हेक्टेयर में चना बोया गया था जबकि इस वर्ष 36 लाख हेक्टेयर में चना लेने का लक्ष्य है इसके विरूद्ध अब तक 25.19 लाख हेक्टेयर में बोनी की गई है। इसी प्रकार मसूर की बोनी 7.56 लाख हेक्टेयर लक्ष्य के विरूद्ध 4.58 लाख हेक्टेयर में बोई गई है। उन्होंने बताया कि तिलहनी फसलों में मुख्य रूप से सरसों का रकबा बढ़ाया गया है। गत वर्ष सरसों 7 लाख हेक्टेयर में ली गई थी जिसे बढ़ाकर इस वर्ष लक्ष्य 8.35 लाख हे. रखा गया है। इसके विरूद्ध अब तक 6.46 लाख हेक्टेयर में बोनी कर ली गई है।
संचालक कृषि ने बताया कि कम वर्षा की स्थिति को देखते हुए वैज्ञानिकों ने किसानों को कम पानी लगने वाली गेहूं किस्म लगाने की सलाह दी है। उन्होंने बताया कि विभाग के मैदानी अमले को भी किसानों को निरन्तर सलाह देने के निर्देश दिए गए हैं।

इंदौर के उपसंचालक श्री चौरसिया हटाये गये

भोपाल। राज्य शासन ने इंदौर में पदस्थ उपसंचालक कृषि श्री विजय चौरसिया को स्थानान्तरित कर राज्य स्तरीय कृषि विस्तार एवं प्रशिक्षण संस्थान (सीएट) भोपाल में पदस्थ किया है।
सूत्रों के मुताबिक प्रदेश के कृषि व्यापार के केन्द्र इन्दौर में श्री चौरसिया के खिलाफ असंतोष था। कृषि व्यापारियों द्वारा इनके कार्यकलाप को लेकर विभिन्न स्तरों पर शिकायतें की गई थीं। उनका प्रभार संयुक्त संचालक इंदौर श्री रेवा सिंह सिसोदिया को सौंपा गया है। इंदौर में ही पदस्थ सहायक संचालक श्री गजानंद जाट को भी स्थानान्तरित कर आगर मालवा में पदस्थ किया गया है।

 

www.krishakjagat.org
Share