ड्रिप एवं मल्चिंग से हुई दोगुनी आय

पिछले 2-3 वर्षो से चीमड़ी (खरबूजा) की खेती करने से कृषि फसल की अपेक्षा अधिक लाभ तो प्राप्त हो रहा था मगर पुरानी पद्धति से खेती करने पर श्रम अधिक करना पड़ता था। लेकिन उद्यानिकी अधिकारियों की सलाह एवं मार्गदर्शन के बाद ड्रिप सिस्टम और मल्चिंग पद्धति अपनाने से अब कम मेहनत करनी पड़ती है लेकिन अच्छा उत्पादन प्राप्त होने लगा है। खेती की नई पद्धतियां अपनाकर दोगुना लाभ कमा रहे कृषक राजू बहुत खुश हैं। इतना ही नहीं उनकी मल्चिंग एवं ड्रिप पद्धति से हो रही खेती देखने आसपास के गांव के लोग भी आते हैं और राजू आत्मविश्वास एवं खुशी के साथ उन्हें इन पद्धतियों के फायदे बताते हैं। राजू कहते हैं कि इस बार मुझे और अधिक रकबा बढ़ाना है। जिससे मैं ज्यादा क्षेत्र में खेती कर और आमदनी बढ़ा सकूंगा।
कृषक राजू प्रसाद पटेल पन्ना जिले के ग्राम बरियारपुर कुर्मियान के निवासी हैं जो वर्ष 2011-12 तक केवल कृषि फसलें लगाते थे। राजू बताते हैं इससे मेरी आमदनी बहुत ही कम होती थी फिर मैंने एक बार खरबूजा (चीमड़ी) की खेती की। जिसमें मुझे कृषि फसल की अपेक्षा अधिक लाभ प्राप्त हुआ। उसके बाद मैंने 2-3 वर्ष तक पुरानी पद्धति से ही चीमड़ी की खेती की। वर्ष 2016 में मेरी मुलाकात उद्यानिकी अधिकारी श्री बनवारी कुशवाहा से हुई। मैं उन्हें अपने खेत में ले गया। खेती देखने के बाद उन्होंने मुझे ड्रिप द्वारा खेती करने की सलाह दी साथ ही इसके लिए विभागीय अनुदान के बारे में बताया। उनकी मदद से मैंने ड्रिप सिस्टम स्थापित किया। जिसके बाद मुझे सिंचाई करने में बहुत बड़ी आसानी हो गयी। अब बहुत ही कम पानी में फसल की अच्छी सिंचाई होने लगी। इसी बीच मुझे उद्यानिकी विभाग द्वारा प्रशिक्षण के लिए बाहर भेजा गया। जहां पर मुझे नयी पद्धति मल्चिंग द्वारा खेती देखने को मिली। इससे प्रोत्साहित होकर मैंने विभाग की मल्चिंग योजना का भी लाभ लिया। मल्चिंग योजना से मेरी निंदाई-गुड़ाई की आवश्यकता खत्म हो गयी। पहले मुझे बिना मल्चिंग के हर 15 दिन में निंदाई करनी पड़ती थी। मुझे वर्ष 2017 में विभाग की ओर से 7 दिवसीय प्रशिक्षण के लिए नोयडा जाने का अवसर भी प्राप्त हुआ। ड्रिप एवं मल्चिंग पद्धति अपनाने अब मुझे कम मेहनत में अधिक उत्पादन प्राप्त हो रहा है। मेरे खरबूजे बाजार में अच्छी कीमत पर बिक रहे हैं। इन नयी पद्धतियों को देखने जब अन्य किसान मेरे खेत आते हैं तो मुझे बड़ी प्रसन्नता होती है।

www.krishakjagat.org
Share