क्लाईमेट स्मार्ट विलेज परियोजना तीन जिलों में लागू

(विशेष प्रतिनिधि)
भोपाल। जलवायु परिवर्तन के प्रति संवेदनशील म.प्र. के तीन जिलों में 25 करोड़ की लागत वाली तीन वर्षीय क्लाईमेट स्मार्ट विलेज परियोजना चल रही है जिसके तहत पहले वर्ष 2016-17 में मात्र 4 करोड़ 87 लाख की राशि खर्च कर विभिन्न घटकों के तहत कृषकों को लाभान्वित किया जा रहा है। इस योजना के लिए पर्यावरण नियोजन एवं समन्वय संगठन (एप्को) को नोडल एजेंसी बनाया गया है तथा इसका क्रियान्वयन कृषि विभाग कर रहा है योजना की मूल्यांकन की जिम्मेदारी नाबार्ड को सौंपी गई है। परियोजना के लिए वर्ष 2017-18 में साढ़े 12 करोड़ की दूसरी किस्त की मांग केन्द्र सरकार से की गई है। इस परियोजना के तहत सीहोर जिले के चयनित गांव में मुख्यमंत्री का गृह ग्राम जैत भी शामिल है।

परियोजना
केन्द्र सरकार के जलवायु परिवर्तन के प्रभाव से बचने, मिट्टी एवं जल के संरक्षण, फसल की सूखा सहनशील किस्मों की खेती, कृषि वानिकी द्वारा ग्रीन हाऊस से गैसों के उत्सर्जन को कम करने एवं मौसम पूर्वानुमान के अनुसार खेती की नई तकनीक पर आधारित तीन वर्षीय परियोजना ‘क्लाईमेट स्मार्ट विलेज’ लागू की है जो पूर्णत: केन्द्रीय अनुदान पर आधारित है। यह परियोजना म.प्र. के तीन जिलों सीहोर, सतना एवं राजगढ़ में चलाई जा रही है इसके तहत प्रत्येक जिले के 20 गांव का चयन किया गया है।

परियोजना को वित्तीय सहायता केन्द्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा गठित कोष से दी जा रही है। यह परियोजना वर्ष 2016-17 से वर्ष 2018-19 तक चलेगी।

परियोजना की गतिविधियां एवं घटक – इसमें मुख्यत: 6 घटक शामिल किए गए हैं।

  • बीज एवं फसल प्रबंधन
  • जल प्रबंधन
  • ऊर्जा प्रबंधन
  • मृदा पोषक तत्व प्रबंधन
  • मौसम पूर्वानुमान आधारित खेती
  • जलवायु परिवर्तन विषय पर प्रशिक्षण एवं क्षमता विकास
प्रमुख जलाशयों का जलस्तर 7 सितंबर की स्थिति
जलाशय उच्चतम जल-स्तर (मीटर में) वर्तमान जल-स्तर       (मीटर में) जलाशय उच्चतम जल-स्तर (मीटर में) वर्तमान जल-स्तर (मीटर में)
बारना डेम-रायसेन 348.55 344.97 माही मेन डेम- झाबुआ 451.5 447.85
इंदिरा सागर-खण्डवा 262.13 260.23 सम्राट अशोक सागर- 459.61 457.45
ओंकारेश्वर डेम- खण्डवा 196.6 192.14 विदिशा
बाणसागर डेम- शहडोल 341.64 340.53 कोलार डेम-सीहोर 462.2 451.96
संजय सरोवर – सिवनी 519.38 516 केरवा डेम-भोपाल 509.93 509
बावनथड़ी राजीव सागर- 344.4 342 राजघाट डेम-अशोकनगर 371 370.3
बालाघाट पेंच डाइवर्जन छिंदवाड़ा 625.75 624.5
गाँधी सागर डेम- मंदसौर 399.9 391.05 कलियासोत डेम – भोपाल 505.67 494.8
मनीखेड़ा डेम-शिवपुरी 346.25 346 कुंडलिया – राजगढ़ 400 392.6
गोपीकृष्णा सागर- गुना 434 433.59 मोहनपुरा – राजगढ़ 398 392.2
परियोजना में चयनित जिले – क्लाईमेट स्मार्ट विलेज परियोजना में म.प्र. के तीन जिले राजगढ़, सीहोर (बुदनी) एवं सतना (मैहर) के कुल 60 गांव का चयन किया गया है।
सीहोर (बुदनी) में गांव- मछवाई, हिंग्नासीर, बिसाखेड़ी, डोबी, सातरमऊ, मुरारी, होड़ा, चांदलाकला, खाबड़ा, जनवासा, इसरपुर, बिनेका, गादर, जैत, खोहा, अम्नापुरा, नारायणपुर, अन्खेड़ी एवं चिखली।
सतना (मैहर) में गांव- परसवाड़ा, डुंडी, अमुआ, नकतरा, बिनेका, दर्शनपुर, हरदुआ, सनी, गढ़वा, पुन्वारा, पिपराकला, घुरैयाकला, मतवारा, पकरिया, कुसेड़ी, पथरहटा, इटहरा, महेदर, गुग्ड़ी, सभागंज एवं धतुरा।
राजगढ़ में गांव- कोटरा, मोतीपुरा, जैतपुरा खाती, जगन्नयापुरा, ज्लावापुरा, गवाकापुरा, जोगीपुरा, छमारी, देवझिरी, टूतीपुरा, धोबीपुरा, पालड़ी, फतेहपुर, भाटपुरा, बेड़ाकापुरा, हीरापुरा, नन्यापुरा, फुल्खेड़ी, मालीपुरा एवं मोहनपुरा।

www.krishakjagat.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share