धान्य एवं तिलहनी फसलों में खरपतवार प्रबंधन

www.krishakjagat.org
Share

खरपतवारनाशी रसायनों के प्रयोग द्वारा खरीफ मौसम की प्रमुख धान्य एवं तिलहनी फसलों में खरपतवारनाशी रसायनों का प्रयोग करके भी

www.krishakjagat.org
Share
Read more

फसलों में खरपतवार नियंत्रण के आधुनिक यंत्र

www.krishakjagat.org
Share

खरपतवार भोजन एवं प्रकाश के लिए मुख्य फसल से प्रतिस्पर्धा करते हैं अत: फसल के लिए खेत में डाले गए

www.krishakjagat.org
Share
Read more

यंत्रीकृत धान रोपाई से किसानों की आय में इजाफा

www.krishakjagat.org
Share

चावल दुनिया में सबसे महत्वपूर्ण खाद्य फसलों में से एक है। वर्ष 2016-17 में भारत में 44.5 मिलियन हेक्टेयर क्षेत्र

www.krishakjagat.org
Share
Read more

ट्रैक्टर चलित बीज-खाद बुआई यंत्र

www.krishakjagat.org
Share

भारत एक कृषि प्रधान देश है। यहाँ 142.6 मिलियन हेक्टेयर भूमि पर कृषि होती है। जिसमें 0.697 मिलियन हेक्टेयर पर

www.krishakjagat.org
Share
Read more

फसल अवशेष के प्रभाव एवं प्रबंधन

www.krishakjagat.org
Share

मृदा के भौतिक गुणों पर प्रभाव -फसल अवशेषों को जलाने के कारण मृदा ताप में वृद्धि होती है। जिसके फसलस्वरूप

www.krishakjagat.org
Share
Read more

पर्यावरण को बचाने के लिए हैप्पी सीडर

www.krishakjagat.org
Share

खाद्यान्न फसलों में धान-गेहूं भारत का एक प्रमुख फसल प्रणाली है। यह फसल प्रणाली देश की खाद्यान्न सुरक्षा के लिए

www.krishakjagat.org
Share
Read more

थ्रेशर प्रचालन में सावधानियाँ व सुझाव

www.krishakjagat.org
Share

थ्रेशर दुर्घटनाओं के प्रमुख कारण थ्रेशर पर काम करते समय दुर्घटनाएं मुख्यत: उचित जानकारी के अभाव में तथा कुछ असुरक्षित

www.krishakjagat.org
Share
Read more

द्विस्तरीय उर्वरक के लिये नया यंत्र

www.krishakjagat.org
Share

भारत दुनिया में चीन के बाद उर्वरकों का दूसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता है। यह दुनिया में पोषक तत्वों की खपत

www.krishakjagat.org
Share
Read more

अधिक उत्पादन के लिये अपोजी लेजर लैण्ड लेवलर

www.krishakjagat.org
Share

भोपाल। आधुनिक खेती में अधिक उत्पादन के लिये जितना महत्व उत्तम बीज, संतुलित उर्वरक, रोग व कीट नियंत्रण का है

www.krishakjagat.org
Share
Read more

‘प्लग ट्रे’ सब्जी पौध उत्पादन की आधुनिक तकनीकी

www.krishakjagat.org
Share

प्लग ट्रे पौध उत्पादन तकनीकी को शहरी क्षेत्रों के आसपास सब्जी पौध उत्पादन हेतु लघु उद्योग के रूप में अपनाया

www.krishakjagat.org
Share
Read more
Share