बढ़ती आत्मनिर्भरता से ही बचेंगे गाँव

www.krishakjagat.org
Share

करोड़ों गांववासियों की आजीविका की रक्षा एवं गांववासियों की बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए ग्रामीण संकट का समाधान

www.krishakjagat.org
Share
Read more

आशा बीच निराशा- दलहन, तिलहन की

www.krishakjagat.org
Share

संयुक्त राष्ट्र संघ तथा आर्थिक सहयोग तथा विकास संगठन के अनुमान के अनुसार भारत की जनसंख्या वर्ष 2026 तक एक

www.krishakjagat.org
Share
Read more

किसान का श्रममूल्य

www.krishakjagat.org
Share

मनुष्य को दिनभर काम के बदले मिलने वाला परिश्रम मूल्य उसके परिवार का पोषण मूल्य प्राप्त करने के लिए पर्याप्त

www.krishakjagat.org
Share
Read more

सशक्त हो पौध संरक्षण रसायनों का परीक्षण ढांचा

www.krishakjagat.org
Share

पौध संरक्षण रसायनों का कृषि उत्पादन में अपना अलग योगदान रहता है। पिछले कुछ दशकों से इनके उपयोग में गति

www.krishakjagat.org
Share
Read more

तालाब खत्म करने से प्यासा है बस्तर

www.krishakjagat.org
Share

हर समय तर रहने वाला बस्तर अब पूरे साल बूँद-बूँद पानी को तरस रहा है। खासतौर पर शहरी इलाकों का

www.krishakjagat.org
Share
Read more

दूध उत्पादन के नये आयाम

www.krishakjagat.org
Share

देश ने दूध उत्पादन में सकारात्मक उन्नति की है। वर्ष 1991-92 में जहां देश में दूध का उत्पादन मात्र 556

www.krishakjagat.org
Share
Read more

किसानों के लिए योजनाएं कितनी सार्थक

www.krishakjagat.org
Share

19-20 सितम्बर को नई दिल्ली में राष्ट्रीय कृषि सम्मेलन का आयोजन रबी अभियान के रूप में आयोजित किया जा रहा

www.krishakjagat.org
Share
Read more

बागवानी फसलों की बरबादी क्यों ?

www.krishakjagat.org
Share

देश में किसानों की बागवानी फसलों के प्रति रुचि वर्ष प्रति वर्ष बढ़ती चली जा रही है इसे एक सकारात्मक

www.krishakjagat.org
Share
Read more

भूख और खाद्यान्न के बीच का संकट

www.krishakjagat.org
Share

आज भी अनेकानेक कारणों से हमारे देश में कृषि को उद्योग के दर्जे से दूर ही रखा गया है। जाहिर

www.krishakjagat.org
Share
Read more

कर्जग्रस्त, अभावग्रस्त, तनावग्रस्त किसान

www.krishakjagat.org
Share

करोड़ों गांववासियों की आजीविका की रक्षा एवं गांववासियों की बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए ग्रामीण संकट का समाधान

www.krishakjagat.org
Share
Read more
Share