जैविक खेती का सशक्त माध्यम बायोगैस संयंत्र

शाजापुर। शुजालपुर विकासखंड अंतर्गत ग्राम-ताजपुर उकाला मण्डावर व रिछोदा में वर्ष 2016-17 में निर्मित 13 बायोगैस संयंत्रों का सफलता पूर्वक संचालन संयंत्रों से स्लरी के रूप में मिलने वाली अनमोल जैविक खाद व उसके उपयोग से किसानों की भूमि में हुए सुधार व गुणवत्ता पूर्ण उत्पादन में बढ़ोत्तरी को दृष्टिगत रखते हुए साथ ही प्रदूषण मुक्त ईंधन की उपलब्धता को ध्यान में रखकर केन्द्र मोहम्मदखेड़ा के ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी श्री एस.के. पवैया ने वर्ष 2017-18 में भी अधिकतम कृषकों को योजना का लाभ दिलाने का संकल्प लिया व उनके द्वारा किये गये भागीरथी प्रयासों के फलस्वरूप कृषक श्री बलदेव सिंह पिता श्री करणसिंह राजपूत ग्राम चितोड़ा। इस तरह कुल 10 कृषकों के यहां बायोगैस संयंत्रों का सफलता पूर्वक निर्माण करवाकर सभी संयंत्रों को चालू करवा दिया गया है। जिससे क्षेत्र के पशुपालक कृषकों में उत्साह की लहर है। चालू वित्तीय वर्ष में इससे अधिक बायोगैस संयंत्रों का निर्माण होने की सम्भावना है। किसानों का बहुमूल्य गोबर कंडों के रूप में जलने से बच रहा है। व स्लरी के रूप में सभी तत्वों से युक्त बहुमूल्य जैविक खाद के उपयोग से किसानों की मिट्टी की गुणवत्ता में सुधार के साथ-साथ उच्च क्वालिटी के उत्पादन में वृद्धि हुई है। कृषकों के यहां बायोगैस संयंत्र निर्माण कार्य करवाने में श्री मनोहर लाल मालवीय वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी वि.ख. शुजालपुर व श्री रामगोपाल मालवीय सरपंच ग्राम चितोनी का सराहनीय योगदान रहा।

www.krishakjagat.org
Share