किसान आत्महत्या जैसे नकारात्मक कदम से बचें : श्री पाटीदार

www.krishakjagat.org
Share

(प्रकाश दुबे)
भोपाल। मंदसौर गोलीकांड में मृत किसानों के परिवारों को सरकार ने बड़ी राहत देकर शांत कर दिया। किंतु गोलीकांड से निकली चिंगारी ने प्रदेश ही नहीं देश में किसान आंदोलन को एक नया रूप दिया है। ऐसी स्थिति से देश-प्रदेश की सरकार को किसानों के हितों में निर्णय लेना जरूरी है। मंदसौर गोलीकांड से उपजे सवालों एवं किसानों की समस्याओं का समाधान कैसे हो मुद्दे पर राज्य कृषक आयोग के अध्यक्ष श्री ईश्वर लाल पाटीदार से कृषक जगत की हुई चर्चा में श्री पाटीदार ने बताया कि आयोग ने म.प्र. के किसानों से सुझाव आमंत्रित किए हैं। किसानों ने खेती की दशा सुधारने के लिए अनेक सुझाव दिए हैं। आयोग द्वारा इन सुझावों को मूल्यांकन कर सरकार को अनुशंसाएं भेजी जाएगी। आयोग कृषकों की आय बढ़ाने, आधुनिक वैज्ञानिक तरीके से खेती, कम लागत में अधिक उत्पादन, जिला स्तर पर गौशालाओं का निर्माण, समर्थन मूल्य बढ़ाने, सिंचाई साधनों का विस्तार आदि बिंदुओं पर विस्तार से विचार कर सुझाव भेजेंगे। किसानों में आत्महत्या की बढ़ती प्रवृत्ति को श्री पाटीदार ने नकारात्मक कदम बताया। खेती में उतार-चढ़ाव हो सकता हैं। पर उनसे जूझने में ही किसानों का मान है। पूर्व जिला भाजपा अध्यक्ष रतलाम श्री पाटीदार ने किसानों को अपनी समस्याओं की शासन स्तर पर मजबूती से पैरवी की। भाजपा सरकार किसानों के हितों की रक्षा के लिए पूरे प्रयास कर रही है। श्री पाटीदार जिलों में व्यापाक दौरे कर कृषकों से रूबरू हो रहे हैं।

www.krishakjagat.org
Share
Share