ravi_fasal

रबी मौसम में कम पानी वाली फसलें लगायें

  • खरीफ फसलों मक्का, उड़द, सोयाबीन की कटाई के तुरन्त बाद खेत की हकाई, जुताई कर पाटा लगाकर नमी का संचय करें।

  • रबी फसलों की बुवाई के लिए उचित तापक्रम-अलसी, सरसों के लिए 30 डिग्री, चना व मसूर के लिए 27 डिग्री, गेहूं ऊंची प्रजाति के लिए 25 डिग्री, गेहूं बौनी प्रजाति के लिए 22 डिग्री सेल्सियस उपयुक्त होता है।
  • दलहनी फसलें चना, मसूर, तिवड़ा, मटर व तिलहनी फसलें सरसों, अलसी को अधिक से अधिक लगायें।

  • खरीफ फसलों की कटाई के बाद जल्द से जल्द खेत की तैयारी करें व जीरोटिलेज मशीन का उपयोग कर बुवाई करें।
  • चना व मसूर के साथ अंतरवर्तीय फसल के रूप में अलसी को लगायें।
    रबी मौसम में कम पानी वाली फसलें
  • असिंचित अवस्था के लिए (15 अक्टूबर से 31 अक्टूबर तक) गेहूं की शरबती किस्म सी-306, एच.डब्ल्यू.-2004 (अमर), जे.डब्ल्यू.-17 (स्वप्निल), एच.आई.-1500 (अमृता)किस्मों का चयन करें।
  • अद्र्धसिंचित अवस्था के लिए (15 अक्टूबर से 10 नवम्बर तक) एक सिंचाई उपलब्ध होने पर जे.डब्ल्यू.-3020, जे.डब्ल्यू.-3173, जे.डब्ल्यू.- 3288, एच.आई.-1531 (हर्षिता), कठिया गेहूं की एच.आई.- 8627 (मालवकीर्ति)किस्मों का चयन करें।
  • सिंचित अवस्था व समय से बुवाई के लिए (10 नवम्बर से 25 नवम्बर तक) दो सिंचाई उपलब्ध होने पर जे.डब्ल्यू.- 1201, जे.डब्ल्यू.- 1202, जे.डब्ल्यू.- 3211, एच.आई.- 1544 (पूर्णां) व कठिया गेहूं की एच.आई.- 8498 (मालव शक्ति), एम.पी.ओ.-1106 (सुधा)किस्मों का चयन करें।
म.प्र. में इस वर्ष खरीफ मौसम में कम वर्षा हुई व खरीफ मौसम में बारिश में लम्बा अंतराल भी हुआ है। कम वर्षा के कारण नदी, नालों व तालाबों में भी जल का स्तर मध्यम है। अत: किसान भाई रबी मौसम में सिंचाई के विभिन्न स्रोत नलकूप, कुंआ, तालाब, नहर व पानी की उपलब्धता के अनुसार रबी फसलों का चयन करें।
  • सिंचित अवस्था व तीन सिंचाई उपलब्ध होने पर एच.आई.- 8713 (पूसा मंगल), एच.आई.- 8737 (पूसा अनमोल), एच.आई.- 8663 (पोषण), एच.आई.-8759 (पूसा तेजस) किस्मों का चयन करें।
  • धान-गेहूं फसल प्रणाली में गेहूं की देरी से बुवाई (25 दिसम्बर तक)हेतु जे.डब्ल्यू.-1203, जे.डब्ल्यू.- 4010, एम.पी.- 3336, एच.डी.- 2932 किस्मों का चयन करें।
  • 10 अक्टूबर से 15 नवम्बर तक चने की नवीनतम किस्में जे.जी.- 6, जे.जी.- 12, जे.जी.- 16, जे.जी.- 63, जे.जी.- 130, आर.व्ही.जी.- 202 किस्मों का चयन करें।
  • 10 अक्टूबर से 15 नवम्बर तक मसूर की नवीनतम किस्में एच.यू.एल.- 57, डी.पी.एल.- 62, पी.एल.- 8, जे.एल.-3, आई.पी.एल.- 81, आई.पी.एल.- 316, आर.व्ही.एल.- 31 किस्मों का चयन करें।
  • 15 अक्टूबर के बाद अलसी की नवीनतम असिंचित किस्में जे.एल.एस.-9, जे.एल.एस.- 66, जे.एल.एस.- 67, जे.एल.एस.- 73 तथा सिंचित किस्में जे.एल.एस.- 27,जे.एल.एस.- 79 व पी.के.डी.एल.- 41 का चयन करें।

  • 25 सितम्बर के बाद मटर की नवीनतम किस्में पी.एस.एम.-3, आर्किल, रचना, प्रकाश, आदर्श, विकास किस्मों का चयन करें।

 

 गेहूं की उन्नत किस्में
असिंचित अवस्था
किस्म अवधि (दिन)  उपज (क्विं./हे.)
एचडब्ल्यू -2004(अमर) 130-135 15-18
एचडी-4672 (मालवरत्न) 120-125 15-18
एचआई-1500 (अमृता) 120-125 15-18
अर्धसिंचित  अवस्था
किस्म अवधि (दिन) उपज (क्विं./हे.)
एचआई-1605 105-110 40-45
जेडब्ल्यू -3020 130-135 30-35
एचआई -8627 130-135 35-40
(मालवकीर्ति)
एचआई -1531 (हर्षिता) 130-135 40-45
एचडब्ल्यू -3173 120-130 35-40
एमपी – 3288 115-120 40-47
देरी से बुवाई हेतु
किस्म अवधि (दिन) उपज (क्विं./हे.)
एचआई -1563 110-115 45-47
एमपी-1202 110-115 40-45
एमपी-1203 110-115 40-45
एमपी -3336 110-115 40-45
मसूर की उन्नत किस्में
किस्म अवधि (दिन) उपज (क्विं./हे.)
एचयूएल -57 110-115 15-18
डीपीएल-62 110-120 15-18
नूरी 110-120 15-18
एल-4594 110-120 Dec-15
आईपीएल -316 110-115 14-15
आरव्हीएल -30 105-110 14-15
आरव्हीएल-31 105-110 14-15
चने की उन्नत किस्में
किस्म अवधि (दिन) उपज (क्विं./हे.)
विशाल 110-115 18-20
जेजी -16 110-120 18-20
जेजी-130 110-120 18-20
जेजी -412 110-120 18-20
जेजी.-63 110-120 20-25
जेकी -9218 110-115 18-20
जेजी -226 110-115 18-20
जेजी-6 110-120 18-20
जेजी.- 14 110-120 18-20
आरव्हीजी-201 95-110 20-25
आरव्हीजी- 202 100-105 18-20
जेजी-12 110-120 20-22
अलसी की उन्नत किस्में
किस्म अवधि (दिन) उपज(क्वि./हे.)
जेएलएस-27 115-120 15-18
जेएलएस-66 110-115 Dec-14
जेएलएस-67 110-115 Dec-14
जेएलएस-73 110-115 10-Dec
जेएलएस-41 110-115 15-17
मटर की उन्नत किस्में
किस्म अवधि (दिन) उपज (क्वि./हे.)
प्रकाश 100-120 20-25
विकास 100-105 20-25
आदर्श 110-115 20-25
केपीएमआर-400 110-115 20-22
आदर्श 4.9 120-130 15-20
केपीएमआर-400 110-125 22-25
  • डॉ.स्वप्निल दुबे
  • प्रदीप कुमार द्विवेदी
  • डॉ. सर्वेश त्रिपाठी – kvkraisen@gmail.com

www.krishakjagat.org
Share