बिहार के कृषि मंत्री ने म.प्र. की कृषि योजनाओं को सराहा

डॉ. प्रेमकुमार से कृषक जगत की बातचीत

(कृषक जगत विशेष)
भोपाल। बिहार के कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने कहा कृषि क्षेत्र एवं किसान के विकास के लिए म.प्र. शासन के अभिनव योजनाओं को क्रियान्वित कर रहा है, जो प्रशंसनीय हैं। म.प्र. प्रवास पर आये डॉ. प्रेम कुमार ने कृषक जगत से बातचीत में कहा कि वे प्रदेश में कृषि में मशीनीकरण के बढ़ते प्रभाव से प्रभावित हुए हैं। विशेष रूप से कस्टम हायरिंग सेंटर योजना में म.प्र. की प्रगति उल्लेखनीय है। उन्होंने कहा कि इसी तरह कौशल विकास केंद्रों की स्थापना भी ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगारोन्मुखी साबित होगी।
कृषि मंत्री से मुलाकात के दौरान संचालक कृषि अभियांत्रिकी श्री राजीव चौधरी ने कृषि विभाग द्वारा चलाये जा रहे कृषि विस्तार कार्यक्रमों में कृषक जगत की सहयोगी भूमिका को रेखांकित किया। बिहार के कृषि मंत्री ने अपने प्रवास के दौरान कस्टम हायरिंग सेंटर, कौशल विकास केन्द्र, आयशर ट्रैक्टर निर्माण संयंत्र का निरीक्षण किया। उन्होंने म.प्र. शासन की कृषि संबंधित विभिन्न योजनाओं की जानकारी भी विभागाध्यक्षों द्वारा दिये गये प्रजेंटेशन के माध्यम से ली। अपने निरीक्षण के दौरान उन्होंने जहां रेज्ड बेड पद्धति से खेती, आटोमेटिक आलू प्लांटर व लैंड लेवलर यंत्र में विशेष रूचि दिखाई, वहीं म.प्र. शासन की भावान्तर योजना को भी विस्तार से समझा।
यहां उल्लेखनीय होगा कि म.प्र. में कृषि में मशीनीकरण को बढ़ावा देने के लिये कृषि अभियांत्रिकी संचालनालय द्वारा कस्टम हायरिंग केन्द्रों की स्थापना के लिये उल्लेखनीय कार्य किया जा रहा है। इन कार्यों को देखने के लिये अन्य प्रदेशों के भी शीर्ष अधिकारी आ रहे हैं। केंद्र ने भी म.प्र. में कस्टम हायरिंग के क्षेत्र में किये जा रहे कार्यों की सराहना की है।

www.krishakjagat.org
Share