रिलायंस फाउण्डेशन की किसानों को सलाह

www.krishakjagat.org
  • गेहूं की फसल में चौड़ी एवं सकरी पत्ती वाले विभिन्न खरपतवार गेहूं की फसलों के बीच उगकर उनके साथ पोषक तत्व, नमी, स्थान एवं प्रकाश के लिए प्रारंभिक बढ़वार (क्रांतिक अवस्था) के समय प्रतिस्पर्धा कर इन तत्वों को अवशोषित कर लेते हंै जिससे गेहूं की बढ़वार प्रभावित होकर कमजोर हो जाती है जिससे औसतन 35 प्रतिशत उपज कम आने की संभावना बनी रहती है तथा उसकी गुणवता भी अच्छी नहीं रहती। अत: गुणवत्तायुक्त ज्यादा उत्पादन प्राप्त करने के लिए वैज्ञानिक खरपतवार प्रबंधन उचित समय, उचित दवा के माध्यम से बताई गई सही तकनीक से करें।
  • गेहूं की फसल में चौड़ी एवं सकरी पत्ती खरपतवार नियंत्रण हेतु क्लोडिनोफॉप – मेट्सल्फ्यूरान नींदानाशी की 160 ग्राम/ एकड़ मात्रा अथवा सल्फोसल्फ्यूरान मेट्सल्फ्यूरान नामक नींदानाशी 16 ग्राम/एकड़ की दर से बुवाई के 25-30 के अंदर 150 लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करें।
  • मटर में उन्नत नींदा प्रबंधन (चौड़ी एवं सकरी पत्ती वाले खरपतवारों) के लिए मेट्रीब्यूजिन 125 ग्राम नींदानाशी प्रति एकड़ की दर से 150 लीटर पानी में घोलकर फसल बुवाई के 15-20 दिन पर प्रयोग करें।
  • चने के खेतों में इल्लियों को नष्ट करने हेतु पक्षियों के बैठने के लिए 40 से 50 खूंटियां प्रति हेक्टेयर लगायें।
  • चना में कटवर्म कीट की संभावना है, कटवर्म के नियंत्रण के लिए क्लोरोपायरीफॉस डस्ट 8 किलो प्रति एकड़ की दर से भुरकाव करें।

उद्यानिकी

  • मिर्च व टमाटर में लीफकर्ल रोग की संभावना हो सकती है। अत: दिखाई देने पर रोग प्रबंधन हेतु पीले चिपचिपे प्रपंच लगायें तथा थायोमिथाक्जाम 25 डब्ल्यू डीजी 100 ग्राम दवा 500 से 600 लीटर पानी में घोल बनाकर प्रति हेक्टर छिड़काव करें।
  • आलू में पौध की ऊँचाई यदि 15 से 22 से.मी. हो जाए अथवा बुवाई के 30 से 35 दिन बाद तब उनमें मिट्टी चढ़ाने का कार्य अवश्य करें तत्पश्चात आलू की फसलों में सिंचाई करें।

पशुपालन 

  • पशु को कृत्रिम गर्भाधान कराने के 21 दिन बाद गर्मी के लक्षण की पुन: निरीक्षण करना चाहिए। कृत्रिम गर्भाधान कराने के 90 दिन बाद गर्भ परीक्षण भी करवाना चाहिए।
अधिक जानकारी के लिये रेडियो पर सुनें किसान संदेश आकाशवाणी
के एफ एम विविध भारती भोपाल 103.5 मेगा हा.,
जबलपुर 102.9 मेगा हा., पर शाम 6.30 से 6.35बजे एवं      आकाशवाणी छिंदवाड़ा 675 कि.हा.पर शाम 7.00 से 7.05 बजे।
टोल फ्री नं.18004198800 पर
संपर्क करें सुबह 9.30 से शाम 7.30 बजे तक
FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org
Share