रिलायंस फाउण्डेशन की किसानों को सलाह

किसानों को सलाह

  • सोयाबीन में चने की इल्ली एवं तम्बाखू की इल्ली का प्रकोप शुरू होने की संभावना है। इल्ली के समूह द्वारा ग्रसित पत्तियों/पौधों को पहचानकर नष्ट करें। नियंत्रण हेतु थायोमिथाक्सम +लेम्बडा सायहेलोथ्रिन125 मि.ली./हे. की दर से 500 लीटर पानी के साथ छिड़काव करें।
  • सोयाबीन में पीला मोजाइक बीमारी को फैलाने वाली सफेद मक्खी के प्रबंधन के लिए खेत में यलो स्टीकी ट्रैप का प्रयोग करें जिससे मक्खी के वयस्क नष्ट किये जा सकें। पीला मोजाइक रोगग्रसित पौधों को खेत से निकालकर नष्ट कर दें।
  • धान में ब्लास्ट यानी झुलसा नामक बीमारी का प्रकोप होने की संभावना है। इस रोग के लक्षण पत्तियों पर आंखनुमा धब्बे लिए होते हंै। इसके नियंत्रण हेतु ट्राईसाइक्लोजोल 75 प्रतिशत दवा की 10-15 ग्राम मात्रा प्रति 15 लीटर पानी में घोलकर प्रयोग करें।

उद्यानिकी

  • बरसाती प्याज में थ्रिप्स कीट पत्तियों के मध्य सिरे से रस चूसते हंै,नियंत्रण के लिए इमिडाक्लोप्रिड 17.8 प्रतिशत दवा की 8 मिलीलीटर अथवा डाईमिथिएट दवा की 30 मिलीलीटर को 15 लीटर पानी में घोल कर छिड़काव करें।

पशुपालन

  • वातावरण में नमी होने से पशुओं में रोग होने की सम्भावना रहती है अत: पशुओं को हवादार एवं सूखे स्थान में रखें। दुधारू पशुओं को शुद्ध पानी सुबह और शाम अवश्य पिलाएं एवं दाना, हरे एवं शुष्क चारे का मिश्रण खिलायें।

कृषि, पशुपालन, मौसम, स्वास्थ, शिक्षा आदि की जानकारी के लिए जियो चैट डाउनलोड करें-डाउनलोड करने की प्रक्रिया:-

  • गूगल प्ले स्टोर से जियो चैट एप का चयन करें और इंस्टॉल बटन दबाएं।
  • जियो चैट को इंस्टॉल करने के बाद,ओपन बटन दबाएं।
  • उसके बाद चैनल बटन पर क्लिक करें और चैनल ढ्ढठ्ठद्घशह्म्द्वड्डह्लद्बशठ्ठ स्द्गह्म्1द्बष्द्गह्य रूक्क का चयन करें।
  • या आप नीचे के क्तक्र ष्टशस्रद्ग को स्कैन कर, सीधे ढ्ढठ्ठद्घशह्म्द्वड्डह्लद्बशठ्ठ स्द्गह्म्1द्बष्द्गह्य रूक्क चैनल का चयन कर सकते हैं।

कृषि, विज्ञान या अन्य विषय में स्नातक, कम्प्यूटर पर कार्य के जानकार भोपाल व इन्दौर जिलों के ग्रामीण क्षेत्र में विस्तार कार्य करने के इच्छुक युवा संपर्क करें – मो. : 8085954044

 

टोल फ्री नं.१८००४१९८८०० पर
संपर्क करें सुबह 9.30 से शाम 7.30 बजे तक

www.krishakjagat.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share