रिलायंस फाउण्डेशन की किसानों को सलाह

  • हल्दी की बुवाई 15 अप्रैल से 15 जुलाई तक की जाती है। हल्दी की उन्नत किस्में सुगंधा, रोमा, सुरोमा, सीओ-1, कृष्णा, राजेन्द्र सोनिया, सुगुना, सुदर्शन, सुवर्णा, प्रभा, प्रतिभा मुख्य हैं। इन किस्मों के बीज दर बीज प्रकंदों के आकार और बौनी की विधि पर निर्भर करती है। शुद्ध फसल के लिए 20 से 25 क्विंटल प्रकंद व मिश्रित फसल के लिए 12 से 15 क्विंटल प्रकंद प्रति हेक्टेयर पर्याप्त होते हैं।
  • मूंग में आवश्यकता अनुसार सिंचाई करें, नींदा नियंत्रण के लिए हाथ से निंदाई करें तथा रसचूसक कीट जैसे सफेद मक्खी, माहु, हरा मच्छर, जैसिड, थ्रिप्स आदि का प्रकोप हो सकता है, फसल की पत्तियां पीली पडऩे पर रोगग्रस्त पौधे को उखाड़कर जमीन में गाड़ दें। यह रोग मुख्यत: सफ़ेद मक्खी कीट से फैलता है। दिखाई देने पर नियंत्रण के लिए क्लोरोपायरीफॉस 20 ईसी 400 एमएल दवा प्रति एकड़ या इमिडाक्लोप्रिड 5 एमएल दवा प्रति पम्प (15 लीटर पानी) के हिसाब से छिड़कें।

उद्यानिकी

  • सब्जियों के कटहल में फल गलन की समस्या हेतु मेन्कोजेब 2 ग्राम प्रति लीटर के घोल का छिड़काव 15 दिन के अंतराल से करें। नींबू में गमोसिस एवं एन्थ्रेक्नोज बीमारी की रोकथाम हेतु ब्लाइटॉक्स या फाइटोलान दवा 2.5 ग्राम/ली. का छिड़कें।
  • संभावित मौसम में लौकी, तोरई, कददू में रेड पम्पकिन की संभावना हो सकती है। अत: दिखाई देने पर इसके नियंत्रण हेतु मिथाइल पैराथियान 2 प्रतिशत धूल का भुरकाव करें।

पशुपालन

  • दुधारु पशुओं को हरा चारा 25 किलो प्रति पशु प्रतिदिन व संतुलित आहार एवं मिनरल की आपूर्ति हेतु 35 से 40 ग्राम प्रति पशु के हिसाब से खुराक दें। ग्रीष्मकालीन हरे चारे हेतु लगाई मक्का की सिंचाई कर अनुसंशित उर्वरक दें।

कृषि, पशुपालन, मौसम, स्वास्थ, शिक्षा आदि की जानकारी के लिए जियो चैट डाउनलोड करें-डाउनलोड करने की प्रक्रिया:-

  • गूगल प्ले स्टोर से जियो चैट एप का चयन करें और इंस्टॉल बटन दबाएं।
  • जियो चैट को इंस्टॉल करने के बाद,ओपन बटन दबाएं।
  • उसके बाद चैनल बटन पर क्लिक करें और चैनल Information Services MP का चयन करें।
  • या आप नीचे के QR Code को स्कैन कर, सीधे Information Services MP चैनल का चयन कर सकते हैं।

टोल फ्री नं.१८००४१९८८०० पर
संपर्क करें सुबह 9.30 से शाम 7.30 बजे तक

www.krishakjagat.org
Share