रिलायंस फाउण्डेशन की किसानों को सलाह

  • मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना में पंजीकृत किसान न्यूनतम समर्थन मूल्य पर चना, मसूर या सरसों उपार्जन करता है तो उसे 100 रूपये प्रति क्विंटल प्रोत्साहन राशि और उत्पादन की पात्रता की सीमा तक 10 अप्रैल से 9 जून 2018 के बीच प्रदेश की किसी भी मंडी में किसी भी दर पर बेचने पर मिलेगी।
  • किसी भी परिस्थिति में नरवाई खेत में ना जलाएं बल्कि खेत में जीवांश बढ़ायें। फसल अवशेषों में आग लगाने से भूमि में जीवांश की कमी होती है। साथ ही खेत में उपलब्ध लाभदायक सूक्ष्म जीवाणु एवं मित्र कीट नष्ट होते है, जिससे खेत की उपजाऊ शक्ति में कमी आती है, और प्रकृति तथा पर्यावरण में प्रदूषण भी बदता है।
  • खरीफ फसल की कटाई के उपरान्त मृदा जांच हेतु मई माह में खेत खाली होते हैं तब सबसे उपयुक्त है इस समय खेतों से मृदा नमूना लेकर जांच हेतु अपने जिले के कृषि विज्ञान केन्द्र में दे सकते हैं ताकि समय पर मृदा स्वास्थ्य कार्ड प्राप्त कर दी गई जानकारी के अनुसार आगामी फसल में खाद एवं उर्वरक का प्रयोग कर सके ।

उद्यानिकी

  • सब्जियों में रसचूसक कीट के नियंत्रण के लिये इमिडाक्लोप्रिड या थायोमिथाक्सम दवा 0.35-0.45 ग्राम प्रति लीटर की दर से छिड़काव करें। टमाटर, भिण्डी, मिर्च, बैंगन आदि में प्ररोह एवं फलछेदक इल्ली की रोकथाम के लिए ट्रायजोफॉस दवा 2.0 मिली प्रति लीटर का छिड़काव करें।

पशुपालन

  • दूध दोहने से पहले थन एवं अयन को पानी से धो लें। पशु को दोहने से पहले बाहरी वातावरण खुशनुमा और शांत हो। साथ ही दुग्ध दोहने वाले व्यक्ति के हाथ साफ व नाखून कटे होने चाहिए। पशु के बच्चे को आरंभ में दूध उपयुक्त मात्रा में पिलाने के बाद पूरा दूध दुह लेना चाहिए।

कृषि, पशुपालन, मौसम, स्वास्थ, शिक्षा आदि की जानकारी के लिए जियो चैट डाउनलोड करें-डाउनलोड करने की प्रक्रिया:-

  • गूगल प्ले स्टोर से जियो चैट एप का चयन करें और इंस्टॉल बटन दबाएं।
  • जियो चैट को इंस्टॉल करने के बाद,ओपन बटन दबाएं।
  • उसके बाद चैनल बटन पर क्लिक करें और चैनल Information Services MP का चयन करें।
  • या आप नीचे केQR code को स्कैन कर, सीधे Information Services MP चैनल का चयन कर सकते हैं।

टोल फ्री नं.18004198800 पर
संपर्क करें सुबह 9.30 से शाम 7.30 बजे तक

www.krishakjagat.org
Share