रिलायंस फाउण्डेशन की किसानों को सलाह

www.krishakjagat.org
  • चने की फसल का निरीक्षण करें, चने की इल्ली की संख्या (दो या दो से अधिक इल्ली प्रति मीटर कतार में) आर्थिक क्षति सीमा से अधिक पाए जाने पर इसके नियंत्रण हेतु क्विनालफॉस 25 ई.सी. दवा की 2 मिली मात्रा प्रति लीटर पानी में घोल बनाकर छिड़काव करें। एवं टी आकर की खूटियां लगा दें।
  • ग्रीष्मकालीन मूंग की फसल की बुआई के लिए उन्नतशील किस्मों में जवाहर मूंग-3, जवाहर मूंग-721, हम-1, पीडीएम.11, पूसा विशाल, के.851 उपयुक्त है मूंग की फसल में गोबर की खाद 20-25 टन प्रति हेक्टर तथा उर्वरक के रूप में 20 किलोग्राम नत्रजन, 40.60 किलोग्राम फास्फोरस और 20 किलोग्राम पोटाश प्रति हेक्टर दें।

उद्यानिकी

  • कद्दुवार्गीय फसलों में तरबूज, खरबूज, लौकी और ककड़ी की फसल की बुआई का उचित समय मध्य फरवरी तक सर्वोतम होता है तरबूज, खरबूज और ककड़ी की फसल में उर्वरकों में नत्रजन 32 किलोग्राम, 24 किलोग्राम फास्फोरस 12 किलोग्राम पोटाश प्रति एकड़ की मात्रा देना चाहिए।
  • ग्रीष्मकालीन लौकी की उन्नत किस्मों में समर प्रोलिफिक लागए पूसा समकर, प्रोलिफिक राउंड, पंजाब गोल, अर्का बहार आदि उन्नतशील किस्मों की बुआई करना चाहिए।
  • आम के पेड़ों पर फुदका (जेसिड), मिलीबाग का प्रकोप होता है। कीट प्रकोप को रोकने के लिए नीमफल के चूर्ण का घोल 50 ग्राम प्रति लीटर पानी या इमिडाक्लोप्रिड या एसिटामिप्रिड दवा 0.3 मिलीं प्रति लीटर पानी का घोल बनाकर छिड़केंं।

पशुपालन

  • पशुओं को बाह्य परजीवियों की संम्भावना हो सकती है। अत: इनके बचाव हेतु क्लीनर या ब्यूटॉक्स नामक दवा को 1.0 लीटर पानी में 2.0 मिली दवा के अनुपात में मिलाकर पशुओं के शरीर पर सुरक्षात्मक तरीके से लगावेंं।

कृषि, पशुपालन, मौसम, स्वास्थ, शिक्षा आदि की जानकारी के लिए जियो चैट डाउनलोड करें-डाउनलोड करने की प्रक्रिया:-

  • गूगल प्ले स्टोर से जियो चैट एप का चयन करें और इंस्टॉल बटन दबाएं।
  • जियो चैट को इंस्टॉल करने के बाद,ओपन बटन दबाएं।
  • उसके बाद चैनल बटन पर क्लिक करें और चैनल Information Services MP का चयन करें।
  • या आप नीचे के QR Code को स्कैन कर, सीधे Information Services MP चैनल का चयन कर सकते हैं।
टोल फ्री नं. 18004198800 पर
संपर्क करें सुबह 9.30 से शाम 7.30 बजे तक

FacebooktwitterFacebooktwitter
www.krishakjagat.org
Share