खेत तालाब सिंचाई के लिए एक स्थानीय विकल्प

मध्यप्रदेश भौगोलिक क्षेत्र के हिसाब से देश का दूसरा बड़ा राज्य है। राज्य के 51 जिलों में 11 कृषि जलवायु क्षेत्र, 5 फसली क्षेत्र और अलग-अलग भूमि उपयोग, मृदा के प्रकार, बारिश और जल संसाधन बटे हुए हैं। जीविकोपार्जन के लिए 70 प्रतिशत राज्य के लोग कामकाजी हैं और ग्रामीण इलाकों में 85 प्रतिशत लोग कृषि पर आश्रित हैं।

मध्य प्रदेश के सभी क्षेत्रों में सिंचाई के लिए जल संचयन, भंडारण के माध्यम से कृषि जल सुरक्षा, और प्रावधान में सुधार करने की खेत तालाबों क्षमता है। खेत के तालाब, भूजल को पुनर्भरण करने के लिए जलस्रोत की आपूर्ति कर सकते हैं और अतिरिक्त आर्थिक और पर्यावरणीय लाभों की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान कर सकता हैं। संग्रहित पानी का उपयोग विभिन्न उद्देश्यों जैसे सिंचाई, पशुधन, मछली खेती के लिए किया जा सकता है। पानी का उपयोग रबी की फसल के महत्वपूर्ण विकास चरणों में 1-2 बार सिंचाई प्रदान करने के लिए किया जा सकता है, जिससे 15-25 प्रतिशत की उपज में वृद्धि होती है। घाटियों में तालाबों के लिए जमीन का अधिग्रहण करने से अतिरिक्त अपवाह के प्रभावों को कम करने में मदद मिलेगी और समग वाटरशेड प्रबंधन में सकारात्मक योगदान दिया जाएगा।
वर्षा आधारित (वार्षिक वर्षा 500 मिमी या उसके अधिक) कृषि क्षेत्रों में तालाबों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है । यदि औसत वार्षिक वर्षा 500 से 750 मिमी के बीच है, तो 250 से 500 घनमीटर की क्षमता वाले खेत के तालाब का निर्माण किया जा सकता है। अगर औसत वार्षिक वर्षा 750 मिमी से अधिक है, तो 500 घनमीटर से अधिक की क्षमता वाला तालाब विशेष रूप से काली मिट्टी के क्षेत्रों में बिना अस्तर के नियोजित किया जा सकता है। यदि दो से तीन अच्छी बारिश की घटना एंजो पर्याप्त अपवाह उत्पन्न करती हो एक मौसम में होती हैं, तो खेत के तालाबों का निर्माण एक व्यवहार्य विकल्प हो सकता है।
स्वाभाविक रूप से खेत के निचले इलाके में तालाब को खोदा जाना चाहिए। तालाब के निर्माण के दौरान मिट्टी हटाई जाती है, जिसे तालाब के चारों ओर उपतट के निर्माण के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। स्थायित्व के लिए उपतट पर पेड़ों और घास लगाए जाने चाहिए। काली मिट्टी में बिना अस्तर के वर्षा जल संचयन के लिए अच्छी संभावना है, जिसमें रिसाव तथा अन्त: स्त्रवण न्यूनतम हैं। रिसाव तथा अन्तथ स्त्रवणरे तीली मिट्टी और उनके मिश्रित बनावट में अधिक होते हैं और इन मिट्टी में अधिक समय के लिए पानी के भंडारण के लिए अस्तर की आवश्यकता है। कम रिसाव की दर वाली मिट्टी तालाब के निर्माण के लिए सबसे उपयुक्त होती है। तालाब की अधिक गहराई और कम सतह क्षेत्र भी वाष्पीकरणीय घाटे को कम करेगा। हालांकि, 5 मीटर से गहरे खुदाई से की कीमत में वृद्धि होगी और जमीन पर बढऩे वाले पानी के दबाव के कारण रिसाव तथा अन्त: स्त्रवण में वृद्धि होगी।
वर्तमान में कम घनत्व वाले पॉलीथिन (एलडीपीई) शीट्स, विभिन्न घनत्व क्रॉस लम्मिनेटेड शीट्स का व्यापक रूप से उपयोग, तालाब के अस्तर के लिए किया जाता है। अस्तर की फिल्म जल प्रबंधन में एक क्रांतिकारी अवधारणा है जो उचित लागत पर रिसाव तथा अन्त: स्त्रवण के नुकसान को कम करती है। अगर पॉलीथिन शीट को ठीक से मिट्टी के नीचे रखा एवं दफनाया तो 100 प्रतिशत पानी के रिसाव एवं अंतस्त्र स्त्रवण को रोका जा सकता है, साथ ही लम्बे समय के लिए काम कर सकता है। अस्तर की फिल्म कठिन, बहुपरत, चौड़ी चौड़ाई, काले, कम घनत्व पॉलीथिन (एलडीपीई) एवं नवीनतम तकनीक से निर्मित विभिन्न चौड़ाई (4 से 10 मीटर) और मोटाई (100 से 250 माइक्रोन) में उपलब्ध है।
कब बनायें – अप्रैल से जून तक (वर्षा शुरू होने तक)
किस आकार का -10&10&3 मी. (जरूरत के हिसाब से कम-अधिक किया जा सकता है)
अनुमानित मूल्य – रुपये 65-80 प्रति घनमीटर (बिना अस्तर) रुपये 100-120 प्रति घनमीटर (अस्तर के साथ)।

  • योगेश राजवाड़े
  • अभिषेक वाघाये
  • के. विआर राव
  • रविंद्र रांधे

www.krishakjagat.org
Share