पीएम किसान योजना - नहीं लुभा पाई किसानों को

Share On : facebook-krishakjagat.org twitter-krishakjagat.org whatsapp-krishakjagat.org

पीएम-किसान-योजना---नहीं-लुभा-पाई-किसान

पीएम - किसान योजना

(निमिष गंगराड़े)

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की महत्वाकांक्षी और छोटे किसानों का वित्त पोषण करने वाली पीएम किसान योजना में इस वर्ष अभी तक लक्ष्य से कम किसान जुड़े हैं। योजना में पूरे देश में करीब 14.5 करोड़ किसानों के पंजीकृत होने का अनुमान था और इसके लिए केन्द्र सरकार ने 75 हजार करोड़ का प्रावधान रखा था।

कृषि मंत्रालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार अब तक इस योजना में केवल 7 करोड़ 63 लाख किसानों ने ही पंजीयन कराया है। 4 नवम्बर तक पीएम किसान योजना में पंजीकृत किसानों में से 7.17 करोड़ किसान 2,000 रु. की प्रथम किस्त ले चुके हैं। वहीं 6.12 करोड़ किसान दूसरी किस्त और 3.65 करोड़ ने तीसरी किश्त भी प्राप्त कर ली हैं। प्रधानमंत्री किसान योजना में समय पर रजिस्ट्रेशन से चूक जाने पर आगे की किश्त नहीं मिलती है।

चुनिंदा राज्यवार- किस्त लाभार्थियों की संख्या
राज्य कुल लाभार्थी प्रथम द्वितीय तृतीय
बिहार 4109307 4088926 3068706 652717
छत्तीसगढ़ 1513905 1465870 1331564 164500
मध्यप्रदेश 4232680 3997295 3356039 12397
महाराष्ट्र 7367216 6742089 5189648 2051972
राजस्थान 5270571 4404817 3960642 2453059
उत्तरप्रदेश 17487491 16712457 14844340 12438114
उत्तराखंड 639625 628647 592147 485015

कृषि मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक इस वित्तीय वर्ष 2019-20 के अंत तक संभवत: 10-11 करोड़ किसान ही प्रधानमंत्री किसान योजना का लाभ उठा पाएंगे। क्योंकि कांग्रेस शासित सरकारें इसमें रुचि नहीं ले रही हैं। केन्द्र और राज्य सरकारों के मध्य हमेशा किसान राजनीतिक विसात पर एक मोहरा रहा है।

4 नवम्बर 2019 की स्थिति में योजना
  • पंजीकृत किसान -
7,63,24,367
  • प्रथम किस्त प्राप्त किसान
7,17,42,960
  • द्वितीय किस्त प्राप्त
6,12,26,760
  • तीसरी किस्त प्राप्त
3,65,55,148

कृषि मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक 2015-16 की कृषि जनगणना के अनुसार देश के 14.5 करोड़ किसानों के लिए वर्ष 2019-20 के लिए 2 हजार रु. की 4 किस्तों में देय राशि का कुल बजट 75 हजार करोड़ रु. था अब इसमें से 20-25 हजार करोड़ रुपये बच जाएंगे जिसे ग्रामीण विकास की अन्य योजनाओं को आवंटित किया जा सकता है।

भाजपा शासित राज्य आगे

महाराष्ट्र, हरियाणा, गुजरात, उत्तर प्रदेश, भाजपा शासित राज्य इस योजना का लाभ लेने में आगे चल रहे हैं। बिहार, उड़ीसा के किसानों ने भी तीसरी किस्त अपने नाम कर ली है। वहीं पं. बंगाल की केन्द्र से अदावत जग जाहिर है, और वहां एक भी किसान का पंजीयन नहीं हुआ है।

 

Share On : facebook-krishakjagat.org twitter-krishakjagat.org whatsapp-krishakjagat.org

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated News