रबी में मटर एवं मूंग बीजों पर नहीं मिलेगा अनुदान

Share On : facebook-krishakjagat.org twitter-krishakjagat.org whatsapp-krishakjagat.org

रबी-में-मटर-एवं-मूंग-बीजों-पर-नहीं-मिल

गेहूं बीज 250 रु. क्विंटल हुआ महंगा

रबी फसलों की बीज दरें निर्धारित

(विशेष प्रतिनिधि)

भोपाल। राज्य शासन ने रबी 2019-20 के लिए प्रमाणित बीजों की उपार्जन, विक्रय एवं अनुदान दरें निर्धारित कर दी हैं। इस वर्ष कृषकों को गेहूं बीज गत वर्ष की तुलना में 250 रुपए प्रति क्विंटल महंगा मिलेगा। गत वर्ष गेहूं बीज किसानों को अनुदान मिलने के बाद 3000 रुपए क्विंटल पड़ा था जो इस वर्ष 3250 रुपए क्विंटल पड़ेगा। इस वर्ष मटर एवं ग्रीष्मकालीन मूंग फसल बीजों पर अनुदान नहीं देने का निर्णय लिया गया है। गत वर्ष मटर बीजों पर 2000 रुपये क्विंटल एवं मूंग बीजों पर 3300 रुपये क्विंटल अनुदान दिया गया था। बीज दरों का निर्धारण कृषि उत्पादन आयुक्त की अध्यक्षता में गत दिनों हुई बीज निर्धारण समिति की बैठक में लिया गया। निर्णय के मुताबिक इस वर्ष गेहूं, मोटा अनाज (जौ) एवं दलहनी फसलों के प्रमाणित बीज 10 वर्ष तक अवधि की समस्त किस्मों पर तथा 10 वर्ष से अधिक अवधि की किस्मों पर अलग-अलग अनुदान दिया जाएगा। इसके साथ ही तिलहनी फसलों की 15 वर्ष तक अवधि की समस्त किस्मों पर अनुदान दिया जाएगा। 

जानकारी के मुताबिक रबी 2019-20 में किसान को गेहूं बीज 4000 रु. क्विंटल मिलेगा, जबकि वर्ष 2018-19 में इसकी कीमत 3750 रु. क्विंटल थी। गत वर्ष गेहूं बीज पर 750 रु. प्रति क्विंटल किसानों को अनुदान दिया गया था जिसे इस वर्ष भी यथावत रखा गया है। इस वर्ष गेहूं बीज की उपार्जन दर 2450 रु. प्रति क्विंटल तय की गई है। इस वर्ष चने का बीज 6450 रु. क्विंटल मिलेगा, जिस पर 1300 रु. प्रति क्विंटल अनुदान दिया जाएगा। जबकि गत वर्ष चने का बीज 6300 रु. प्रति क्विंटल मिला था। इस वर्ष मटर बीज 4150 रु. क्विंटल मिलेगा तथा अनुदान नहीं दिया जाएगा। जौ पर इस वर्ष भी 800 रु. प्रति क्विं. अनुदान मिलेगा।  बैठक में निर्णय लिया गया कि इस वर्ष 2019-20 में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन, राष्ट्रीय कृषि विकास योजना से वितरण अनुदान देय होगा जो अलग-अलग फसल किस्मों पर अलग-अलग होगा। राज्य शासन ने  निर्देश दिए कि सहकारी संस्थाएं किसानों को जो नगद बीज प्रदाय करेंगी उसका इंद्राज किसानों की बही खाता या ऋण पुस्तिका में करना अनिवार्य होगा। संस्थाएं उपलब्ध प्रमाणित बीज का 30 फीसदी नगद में विक्रय कर सकेंगी। किसानों को निगम एवं संस्थाओं द्वारा वितरण किए जाने वाले बीज पर अनुदान का भुगतान सीधे खाते में किया जाएगा।

रबी बीजों की उपार्जन, विक्रय दर एवं अनुदान      (इकाई- रुपए प्रति क्विं.)
  फसल कृषकों के लिए उपार्जन दरें (बोनस सहित) संस्था की सकल विक्रय दर बीज वितरण अनुदान की दर जो सीधे कृषकों के खाते में जमा होगी अनुदान बाद कृषकों के लिये प्रभावी दरें
गेहूं ऊंची जाति (10 वर्ष तक की अवधि) 2450 4000 750 3250
गेहूं ऊंची जाति (10 वर्ष से अधिक अवधि) 2450 4000 100 3900
गेहूं बौनी जाति (10 वर्ष तक की अवधि) 2100 3700 750 2950
गेहूं बौनी जाति (10 वर्ष से अधिक अवधि) 2100 3700 100 3600
चना (10 वर्ष तक) 4750 6450 1300 5150
चना (10 वर्ष से अधिक) 4750 6450 500 5950
चना काबुली (10 वर्ष तक) 5100 6500 1300 5200
चना काबुली (10 वर्ष से अधिक) 5100 6500 500 6000
मटर (10 वर्ष तक) 2500 4150 - 4150
मटर (10 वर्ष से अधिक) 2500 4150 - 4150
मटर अर्किल 2800 4450 - 4450
मसूर (10 वर्ष तक) 4550 6350 3200 3150
मसूर (10 वर्ष से अधिक) 4550 6350 1500 4850
सरसों (15 वर्ष तक) 4300 6600 3000 3600
सरसों (15 वर्ष से अधिक) 4300 6600 - 6600
अलसी (15 वर्ष तक) 4200 6000 2900 3100
अलसी (15 वर्ष से अधिक) 4200 6000 - 6000
जौ (10 वर्ष तक) 1600 3150 800 2350
जौ (10 वर्ष से अधिक) 1600 3150 400 2750
मूंग ग्रीष्मकालीन (10 वर्ष तक) 7000 8800 - 8800
मूंग ग्रीष्मकालीन (10 वर्ष से अधिक) 7000 8800 - 8800
Share On : facebook-krishakjagat.org twitter-krishakjagat.org whatsapp-krishakjagat.org

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated News