अतिवृष्टि से खरीफ फसलें होंगी प्रभावित

Share On : facebook-krishakjagat.org twitter-krishakjagat.org whatsapp-krishakjagat.org

अतिवृष्टि-से-खरीफ-फसलें-होंगी-प्रभाव

इस वर्ष 137 लाख हेक्टेयर में हुई बोनी

(विशेष प्रतिनिधि)

भोपाल। प्रदेश में लगातार बारिश के कारण खरीफ फसलों को होने वाले नुकसान की आशंका के बीच बुवाई पूरी कर ली गई है जो गत वर्ष की तुलना में लगभग 4 लाख हे. अधिक है। वहीं कृषि एवं राजस्व विभाग द्वारा अतिवृष्टि से होने वाले नुकसान का सर्वे कराया जा रहा है जिसमें नुकसान की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता। सोयाबीन, उड़द, मूंग एवं मक्का फसल को नुकसान हो सकता है। कुल लगभग 1 से डेढ़ लाख हेक्टेयर की फसल चौपट होने का अनुमान है। क्योंकि प्रदेश के 33 जिलों में सामान्य से अधिक वर्षा हुई है तथा सोयाबीन सहित अन्य फसलों के खेतों में पानी भर गया है। बाकी कसर कीट व्याधि ने पूरी कर दी है। वहीं खरीफ बोनी 136.91 लाख हेक्टेयर में हुई है जबकि गत वर्ष 132.97 लाख हेक्टेयर में बोनी हुई थी।

 

म.प्र. में फसलों का रकबा
(लाख हे. में)
फसल रकबा
धान 24.6
ज्वार 1.48
मक्का 15.42
बाजरा 2.99
तुअर 5.06
उड़द 16.46
मूंग 1.82
सोयाबीन 55.16
मूंगफली 2.22
तिल 3.14
कपास 6.09

 

प्रदेश के 33 जिलों में सामान्य से अधिक वर्षा

प्रदेश में इस वर्ष मानसून में एक जून से 13 सितम्बर तक 33 जिलों में सामान्य से अधिक, 16 जिलों में सामान्य एवं शेष जिलों में सामान्य से कम वर्षा दर्ज हुई है। सर्वाधिक वर्षा मंदसौर जिले में और सबसे कम वर्षा सीधी जिले में दर्ज की गई है।

सामान्य से अधिक वर्षा वाले जिले मंदसौर, नीमच, आगर-मालवा, भोपाल, राजगढ़, रायसेन, शाजापुर, झाबुआ, सीहोर, रतलाम, खण्डवा, बुरहानपुर, नरसिंहपुर, गुना, बड़वानी, विदिशा, इंदौर, उज्जैन, होशंगाबाद, देवास, हरदा, जबलपुर, मण्डला, अशोकनगर, सिवनी, धार, सागर, अलीराजपुर, खरगोन, दमोह, बैतूल, सिंगरौली और श्योपुरकलां।

सामान्य वर्षा वाले जिले डिण्डौरी, छिंदवाड़ा, उमरिया, अनूपपुर, छतरपुर, टीकमगढ़, शिवपुरी, मुरैना, भिण्ड, रीवा, कटनी, बालाघाट, सतना, ग्वालियर, दतिया और पन्ना। 

सामान्य से कम वर्षा वाले जिले शहडोल और सीधी हैं।

 

अतिवृष्टि से खराब हुई फसलों का सर्वे कलेक्टरों के निगरानी में कराया जा रहा है। संकट की इस घड़ी में सरकार अन्नदाताओं के साथ है। सर्वे के पश्चात किसानों को मुआवजा मिलेगा। 

- सचिन यादव
कृषि मंत्री (म.प्र.) 

म.प्र. में गत एक-डेढ़ माह से हो रही लगातार बारिश ने किसानों की उम्मीद पर पानी फेर दिया है। प्रारंभ में बेहतर मानसून के कारण किसानों को इस वर्ष सोयाबीन का अच्छा उत्पादन होने की उम्मीद थी, क्योंकि विगत 2-3 वर्षों से सोयाबीन का उत्पादन प्रभावित हो रहा था। परन्तु इस वर्ष भी अतिवृष्टि ने किसानों को झकझोर दिया है। राज्य में 136.91 लाख हेक्टेयर में से 55.16 लाख हेक्टेयर में सोयाबीन बोई गई है। इसके मालवा अंचल में प्रभावित होने की संभावना है। क्योंकि अधिक वर्षा के कारण खेतों में पानी भर गया है तथा निकासी नहीं हो पायी है। राज्य के उज्जैन, नरसिंहपुर, इन्दौर, विदिशा, धार, बैतूल, होशंगाबाद जिलों में सोयाबीन, उड़द, मूंग को नुकसान की खबर है। किसानों का कहना है कि इतनी लागत लगने के बाद भी सोयाबीन में फली न आना तथा पानी में गलने के कारण बहुत नुकसान होगा। इसकी भरपाई कैसे होगी इसकी चिंता सता रही है।

भारी बारिश से फसल नुकसान का आकलन करें

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने सभी जिला कलेक्टर्स को भारी बारिश से जान-माल और फसल के नुकसान का प्रारंभिक आकलन करने के निर्देश दिए हैं ताकि बिना किसी विलम्ब के क्षतिपूर्ति राशि दी जा सके। उन्होंने रबी फसलों के लिए खाद की आवश्यकता का आकलन करने के भी निर्देश दिए।

जनाधिकार कार्यक्रम में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से कलेक्टर्स को मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों की ऋण माफी के संबंध में प्राथमिक रिपोर्ट भेजें। हर जिले में ऋण-माफी से संबंधित समस्या का स्वरूप अलग-अलग है। श्री कमलनाथ ने गौ-शालाएँ खोलने और उन्हें संचालित करने के इच्छुक लोगों के आग्रह को देखते हुए कलेक्टरों से कहा कि इस काम को प्रोत्साहित करें। 

कृषि विभाग के मुताबिक इस वर्ष उड़द 16.46 लाख हेक्टेयर में एवं मूंग 1.82 लाख हेक्टेयर में बोई गई है। जानकारी के अनुसार लगातार वर्षा से उड़द-मूंग का उत्पादन भी प्रभावित होने की आशंका है। इसके विपरीत धान से किसानों को उम्मीद की किरण दिखाई दे रही उन्हें उम्मीद है कि धान राहत अवश्य देगी। सूत्रों के मुताबिक फसल बीमा योजना के तहत भी सर्वे किया जा रहा है। अब तक 3400 किसानों ने फसल नुकसान की सूचना दी है जिसमें से 2700 किसानों का सर्वे किया जा चुका है।

Share On : facebook-krishakjagat.org twitter-krishakjagat.org whatsapp-krishakjagat.org

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated News