खरीफ बुआई का रकबा पूरा होने की उम्मीद

Share On : facebook-krishakjagat.org twitter-krishakjagat.org whatsapp-krishakjagat.org

खरीफ-बुआई-का-रकबा-पूरा-होने-की-उम्मीद

बाढ़ की स्थिति पर केन्द्र की नजर

(विशेष प्रतिनिधि)

नई दिल्ली। दक्षिण पश्चिम मॉनसून में काफी हद तक बारिश की कमी की भरपाई हो गई है और देश भर में खरीफ  बुआई का काम अच्छी गति से आगे बढ़ रहा है। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने गत दिनों यह जानकारी दी। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने कुल मिलाकर मॉनसून के सामान्य रहने का अनुमान व्यक्त किया है। श्री तोमर ने कहा, मॉनसून आने में थोड़ी देरी हुई और कुछ चिंता पैदा हुई। अब बारिश की स्थिति में सुधार हुआ है। बारिश की कमी की काफी भरपाई हो गई है। 

उन्होंने कहा, हमें उम्मीद है कि कुल मिलाकर बरसात की स्थिति बेहतर हो जाएगी और खरीफ फसलों के तहत बुआई रकबे में कमी को पूरा कर लिया जाएगा। बुआई का काम अच्छी तरह से प्रगति कर रहा है। महाराष्ट्र और कर्नाटक जैसे कुछ राज्यों में बाढ़ की स्थिति पर उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की स्थिति की बारीकी से नजर है। केंद्रीय कृषि मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, खरीफ की सभी फसलों की बुआई का कुल रकबा गत वर्ष के 918.70 लाख हेक्टेयर के मुकाबले कम यानी 869.55 लाख हेक्टेयर ही है। कृषि सचिव श्री संजय अग्रवाल ने कहा, समग्र बुआई रकबे में जो कमी थी वह पिछले सप्ताह की तुलना में काफी बेहतर हुई है। अब कमी की काफी हद तक भरपाई हो गई है।

  • कुल खरीफ बोनी 869.55 लाख हेक्टेयर में
  • धान 265.20 लाख हेक्टेयर
  • दलहन 115.39 लाख हेक्टेयर
  • तिलहन 157.17 लाख हेक्टेयर
  • मोटे अनाज 153.92 लाख हे.

उन्होंने कहा कि धान बुआई का रकबा अभी भी कम है और आने वाले हफ्तों में स्थिति बेहतर होगी क्योंकि बुआई सितंबर के पहले सप्ताह तक चलेगी। मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार खरीफ में अब तक धान बुआई का रकबा 265.20 लाख हेक्टेयर है जो पिछले साल की समान अवधि में 304.18 लाख हेक्टेयर था। श्री अग्रवाल ने कहा कि दलहन बुआई के रकबे में सुधार हुआ है, लेकिन तिलहन का रकबा अभी भी कम है।

श्री संजय अग्रवाल
केन्द्रीय कृषि सचिव 

आंकड़ों के अनुसार, इस वर्ष खरीफ सत्र में 115.39 लाख हेक्टेयर में दलहन की बुआई की गई है। पिछले साल इसी अवधि में 121.39 लाख हेक्टेयर में दलहन की बुआई हुई थी। तिलहन की बुआई 157.17 लाख हेक्टेयर में की गई है जो पिछले साल की समान अवधि में 162.52 लाख हेक्टेयर था। समीक्षाधीन अवधि में मोटे अनाज की बुआई 153.92 लाख हेक्टेयर में की गई है पिछले साल की सामान अवधि में यह रकबा 162.52 लाख हेक्टेयर था। 

Share On : facebook-krishakjagat.org twitter-krishakjagat.org whatsapp-krishakjagat.org

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated News