मध्य प्रदेश में 85 फीसदी बुवाई पूरी

Share On : facebook-krishakjagat.org twitter-krishakjagat.org whatsapp-krishakjagat.org

मध्य-प्रदेश-में-85-फीसदी-बुवाई-पूरी

मक्का लक्ष्य से अधिक, धान में कमी

(विशेष प्रतिनिधि)

भोपाल। प्रदेश में झमाझम मानसूनी बारिश के बाद अब तक खरीफ बोनी 117 लाख हेक्टेयर में हो गई है जो लक्ष्य के विरुद्ध 85 फीसदी से अधिक है। जबकि गत वर्ष इस अवधि में 111 लाख हेक्टेयर में बोनी हुई थी। गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष 5 लाख हेक्टेयर रकबे में अधिक बोनी कर ली गई है इसमें प्रदेश की प्रमुख फसल सोयाबीन का रकबा बढ़ा है। वहीं मक्का की बोनी लक्ष्य से अधिक क्षेत्र में कर ली गई है। राज्य में अब तक 12 जिलों में सामान्य से अधिक, 31 जिलों में सामान्य एवं 8 जिलों में सामान्य से कम वर्षा  हुई है।

प्रदेश में खरीफ फसलों का सामान्य क्षेत्र 118.50 लाख हेक्टेयर है। इस वर्ष 137.01 लाख हेक्टेयर में फसलें लेने का लक्ष्य रखा गया है इसके विरुद्ध अब तक (2 अगस्त) 117.05 लाख हेक्टेयर में बोनी कर ली गई है। जबकि गत वर्ष अब तक 111.93 लाख हेक्टेयर में बुवाई हुई थी। जानकारी के मुताबिक राज्य की प्रमुख खरीफ फसल सोयाबीन की बोनी अब तक 54.77 लाख हेक्टेयर में हो गई है जो गत वर्ष की तुलना में लगभग 6 लाख हेक्टेयर अधिक है। गत वर्ष इस अवधि में 47.87 लाख हे. में बोनी हुई थी। धान की बुवाई में लगभग 3 लाख हेक्टेयर की कमी आयी है। अब तक 12.22 लाख हे. में धान बोई गई है जबकि गत वर्ष अब तक 14.98 लाख हेक्टेयर में बोनी कर ली गई थी। मक्का की बोनी ने लक्ष्य पार कर लिया है। 13.68 लाख हेक्टेयर लक्ष्य के विरुद्ध अब तक 15 लाख हेक्टेयर में मक्का बोया गया है। 

अन्य फसलों में अब तक ज्वार 1.31 लाख हेक्टेयर में, बाजरा 2.42, तुअर 4.35, उड़द 13.98, मूंग 1.53, मूंगफली 1.92, तिल 2.46 एवं कपास 6.10 लाख हेक्टेयर में बोई गई है। प्रदेश में अब तक कुल अनाज फसलें 31.54 लाख हेक्टेयर में, दलहनी फसलें 20 लाख हेक्टेयर में एवं तिलहनी फसलें 59.43 लाख हेक्टेयर में बोई गई है।

प्रदेश में बुवाई स्थिति 2 अगस्त तक (लाख हे. में)
फसल लक्ष्य बुवाई
धान 24.97 12.22
ज्वार 1.39 1.31
मक्का 13.68 15.01
बाजरा 2.57 2.42
तुअर 4.47 4.35
उड़द 16.6 13.98
मूंग 1.92 1.53
सोयाबीन 56.32 54.77
मूंगफली 2.36 1.92
तिल 4.42 2.46
कपास 6.19 6.1
Share On : facebook-krishakjagat.org twitter-krishakjagat.org whatsapp-krishakjagat.org

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated News