कृषि उपज मंडी करोंद (भोपाल) का मामला

Share On : facebook-krishakjagat.org twitter-krishakjagat.org whatsapp-krishakjagat.org

कृषि-उपज-मंडी-करोंद-(भोपाल)-का-मामला

 धान किसानों को लगा 6 करोड़ का चूना, व्यापारी फरार

 

मंडी समिति की भूमिका संदिग्ध

(विशेष प्रतिनिधि)

भोपाल। कृषि उपज मंडी करोंद (भोपाल) में एक रजिस्टर्ड व्यापारी 400 किसानों को लगभग 6 करोड़ का चूना लगाकर फरार हो गया है जिसकी पुलिस तलाश कर रही है। मंडी समिति की लापरवाही का खामियाजा पांच जिले के धान किसान भुगत रहे हैं। किसानों की धान भी गई और भुगतान भी नहीं मिला।

जानकारी के मुताबिक जनवरी-फरवरी 2019 में छोला निवासी आशीष गुप्ता ने पांच जिलों के किसानों से लगभग 400 ट्रक धान खरीदी थी। ये धान कोटा के एक व्यापारी को बेचे जाने के प्रमाण भी पुलिस को मिले हैं। मंडी समिति की लापरवाही ये रही कि तीन लाख रुपए की एफडी जमा होने के बाद भी व्यापारी किसानों से करोड़ों की खरीदी करता रहा, लेकिन इस पर ध्यान नहीं दिया गया। लंबी जांच के बाद निशातपुरा पुलिस ने व्यापारी के खिलाफ धोखाधड़ी, अमानत में खयानत का केस दर्ज कर लिया है। पुलिस ने ये कार्रवाई मंडी सचिव प्रदीप मलिक की लिखित शिकायत के आधार पर की है।

अब तक की जांच में पुलिस को पता चला है कि आशीष ने मंडी समिति में केवल तीन लाख रुपए तक की एफडी ही जमा की थी। यानी इतनी ही कीमत तक का धान वह किसानों से खरीद सकता था। इसके बाद भी वह करोड़ों की धान खरीदी करता रहा, लेकिन मंडी समिति ने इस ओर ध्यान नहीं दिया। उसके पास यहां कोई दुकान भी नहीं थी। इसआई चौहान ने बताया कि आशीष ने इन पांच जिले के किसानों से खरीदा गया धान कोटा के एक व्यापारी को बेचा है। पता चला है कि इस धान की एवज में वह करोड़ों का भुगतान भी ले चुका है। इसके बाद भी उसने किसानों की रकम नहीं चुकाई। पुलिस इस मामले में मंडी समिति की भूमिका की भी जांच कर रही है।

सआई एसकेएस चौहान ने बताया कि ए-75, सत्यज्ञान नगर, छोला निवासी आशीष गुप्ता कृषि उपज मंडी करोंद में रजिस्टर्ड व्यापारी है। ये इकलौता ऐसा रजिस्टर्ड व्यापारी है, जो यहां किसानों से धान खरीदी करता था। सात जनवरी 2019 से 28 फरवरी 2019 के बीच उसने करीब चार सौ किसानों से 400 ट्रक से ज्यादा धान खरीदी कर ली। इनमें भोपाल कृषि उपज मंडी के 108 किसान हैं। इनके अलावा आशीष ने विदिशा, औबेदुल्लागंज, रायसेन और सीहोर के श्यामपुर जाकर भी करीब 200 किसानों से धान की खरीदी कर ली। आरोपी ने किसानों की रकम नहीं चुकाई। मंडी सचिव की शिकायत पर पुलिस ने आशीष के खिलाफ केस दर्ज कर उसकी तलाश शुरू कर दी है। ताजा जानकारी के लिए जब मंडी सचिव श्री प्रदीप मलिक से दूरभाष पर संपर्क किया गया तो उन्होंने फोन काट दिया तथा दुबारा फोन रिसीव नहीं किया। शायद वह मंडी समिति की भूमिका को लेकर मीडिया से बचना चाहते हैं।
 

Share On : facebook-krishakjagat.org twitter-krishakjagat.org whatsapp-krishakjagat.org

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated News