गेहूं का नहीं बढ़ाया एमएसपी पर खरीदी लक्ष्य

Share On : facebook-krishakjagat.org twitter-krishakjagat.org whatsapp-krishakjagat.org

गेहूं-का-नहीं-बढ़ाया-एमएसपी-पर-खरीदी-ल

(अतुल सक्सेना)

नईदिल्ली/भोपाल। देश में इस वर्ष गेहूं का रिकॉर्ड उत्पादन होने की संभावना है इसके बावजूद सरकार ने समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी का लक्ष्य गत वर्ष के समान 357 लाख टन ही रखा है जबकि उत्पादन गत वर्ष से 20 लाख टन अधिक होने का अनुमान है। मप्र में गेहूूं की समर्थन मूल्य पर खरीदी प्रारंभ हो गई है। 75 लाख टन गेहूं खरीदी का लक्ष्य रखा गया है जबकि गत वर्ष 73.13 लाख टन गेहूं खरीदा गया था। देश में गेहंू का पर्याप्त भंडार भी अधिक खरीदी में बाधक बन रहा है क्योंकि भंडारण की समस्या परेशानी का सबब बन सकती है। 

 

बम्पर उत्पादन अनुमान के बावजूद

कृषि मंत्रालय भारत सरकार के दूसरे अनुमान के मुताबिक इस चालू वर्ष में गेहूं का उत्पादन 991.2 लाख टन होने का अनुमान है जबकि गत वर्ष 971 लाख टन उत्पादन हुआ था। इस प्रकार इस वर्ष 20 लाख टन अधिक उत्पादन का अनुमान लगाया गया है, और रबी विपणन वर्ष 2019-20 में सरकार ने एम एस पी पर 357 लाख टन गेहूं खरीदी का लक्ष्य रखा है, जबकि गत वर्ष भी 357 लाख टन की खरीदी हुईथी। विशेषज्ञों का कहना है कि इस वर्ष गेहूं का बम्पर उत्पादन होने के अनुमान के मध्य न्यून्तम समर्थन मूल्य पर सरकार को खरीदी लक्ष्य बढ़ाना चाहिए जिससे अधिक किसान मंडी में अपनी उपज आसानी से बेच सकें। 

म.प्र. में  गेहूँ खरीदी प्रारंभ

चना, मसूर और सरसों खरीदी के लिये तैयारियां पूरी

मध्य प्रदेश में किसानों से समर्थन मूल्य पर गेहूँ खरीदी प्रारंभ हो गई है। रबी विपणन वर्ष 2019-20 में ई-उपार्जन पोर्टल पर पंजीकृत किसानों से गेहूँ के साथ-साथ चना, मसूर और सरसों खरीदी के लिये आवश्यक तैयारियां भी की जा रही हैं।

भारत सरकार द्वारा निर्धारित मापदण्ड के अनुसार एफएक्यू गेहूँ का उपार्जन किया जाना है। अत: राज्य शासन द्वारा यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि कृषकों और समितियों को एफएक्यू की जानकारी रहे। इसिलिए किसानों को जानकारी दी जा रही है कि वे अपनी उपज को पंखा-छन्ना लगाकर तथा सुखाकर लायें।

चालू रबी विपणन वर्ष में केन्द्र सरकार ने गत वर्ष के एमएसपी पर 105 रूपय की वृद्धि कर 1840 रूपये प्रति क्विंटल समर्थन मूल्य तय किया है। इस पर मप्र सरकार ने 160 रूपये बोनस देने की घोषणा कर गेहूं 2000 रूपये प्रति क्ंिवटल खरीदने की घोषणा की है। प्रदेश के कुछ जिलों में 25 मार्च से गेहूं खरीदी प्रारंभ हो गई है तथा कुछ जिलों में 1 अप्रैल से खरीदी शुरू होगी। प्रदेश में इस वर्ष 59 लाख हेक्टेयर में गेहूं की बोनी की गई है तथा उत्पादन 207.74 लाख टन होने का अनुमान लगाया गया है। वहीं देश में 298.47 लाख हेक्टेयर में गेहूं बोया गया है तथा उत्पादन 991.2 लाख टन होने का अनुमान है। 

भारतीय खाद्य निगम के मुताबिक चालू वर्ष में देश के प्रमुख गेहूं उत्पादक राज्य पंजाब से 125 लाख टन, हरियाणा से 85 लाख टन एवं उप्र से 50 लाख टन गेहूं खरीदी का लक्ष्य रखा गया है। यहां क्रमश: 171.60 लाख टन, 132.19 लाख टन एवं 350 लाख टन गेहूं उत्पादन होने का अनुमान लगाया गया है। पंजाब, हरियाणा में गेहूं खरीदी 1 अप्रैल से 25 मई तक होगी। एफसीआई के अनुसार फिलहाल देश में 271 लाख टन गेहूं की उपलब्धता बनी हुई है। चालू रबी में रिकॉर्ड उत्पादन अनुमान के बावजूद समर्थन मूल्य पर खरीदी लक्ष्य नहीं बढ़ाने पर किसानों को गेहूं बेचने में परेशानी हो सकती है। 

गेहूं खरीदी का लक्ष्य 
(इकाई-लाख टन में)
पंजाब  -125
हरियाणा  -85
मध्यप्रदेश -75
उत्तरप्रदेश -50
राजस्थान  -17
बिहार  -2
उत्तराखण्ड  -2
गुजरात  -0.5
अन्य राज्य   -0.5
Share On : facebook-krishakjagat.org twitter-krishakjagat.org whatsapp-krishakjagat.org

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated News