रबी विशेषांक

गेहूं एक ही खेत में बार-बार लगाना लाभदायक नहीं

Hits: 583
भूमि की तैयारी : खेत तैयार करने के लिये विभिन्न कृषि क्रियाओं की मात्रा मुख्य रूप से भूमि को किस्म फसल चक्र एवं उपलब्ध सुविधाओं पर निर्भर रहती है। उन स्थानों पर जहां गेहूं की खेती वर्षा के आधार पर की जाती है, विभिन..

Read More


रबी फसलों की उत्पादकता बढ़ाने की जरूरत

Hits: 327
पिछले दस वर्षों में देश ने रबी फसलों के उत्पादन में अच्छी खासी प्रगति की है, रबी की प्रमुख खाद्यान्न फसल जिसका वर्ष 2007-08 में 785.7 लाख टन उत्पादन हुआ था व दस वर्ष बाद 2016-17 में 983.8 लाख टन पहुंच गया। इन दस वर्षों में गेहूं के उत्पाद..

Read More


नगदी फसल आलू

Hits: 251
उन्नत किस्में:- तैयार होने की अवधि के अनुसार  (अ) अगेती (80-100 दिन) कु.चन्द्रमुखी, कु. बहार, कु. लौकर, कु. अलंकार, कु.नवतेज. (ब) मध्यम अवधि वाली (100-120 दिन) कुफरी ज्योति, कुफरी शीतमान, कुफरी बादशाह, कु. लालिमा, कु. चिप..

Read More


बीज उपचार में लाभप्रद सूक्ष्मजीवों की भूमिका

Hits: 376
लाभप्रद सूक्ष्म जीव: लाभप्रद सूक्ष्म जीव कवकीय या जीवाणुवीय उत्पत्ति के होते हैं जो शीघ्र विकासशील व प्रचुर मात्रा में बीजाणुओं का उत्पादन करते हैं। इन जीवाणुओं से राइजोक्टोनिया फ्यूजेरियम पीथ..

Read More


प्याज की उन्नत खेती

Hits: 397
जलवायु : प्याज ठण्डे मौसम की फसल है। इसे सम जलवायु में अच्छी तरह से उगाया जा सकता है। प्याज की फसल के लिए बल्ब बनने के पूर्व 12.80 - 210 सेन्टीग्रेड एवं बल्ब के विकास हेतु 15.50 - 250 सेन्टीग्रेड तापक्रम उपयुक्त रहता है। प्रारम..

Read More


रबी फसलों में संतुलित पोषक तत्व प्रबन्धन फर्टिलाईजर की अहम भूमिका

Hits: 357
फसलों के लिए आवश्यक पोषक तत्व: फसलों को अपनी अच्छी बढ़वार और भरपूर उत्पादन के लिए कुल 16 पोषक तत्वों की सन्तुलित खुराक की आवश्यकता होती है। जिनमें से 3 पोषक तत्व (C,H,O) हवा तथा जल से मिल जाते है तथा शेष 13 पोषक तत्व (N, P, K, Ca, Mg, S, Fe, Zn, Mo, Co..

Read More


बारानी क्षेत्रों में मसूर लगायें

Hits: 341
भूमि : मसूर वर्षा आधारित फसल होने के कारण ऐसी मिट्टी वाले खेतों का चयन करें जिसमें नमी का संरक्षण हो, दोमट से भारी भूमि इसके लिऐ अधिक उपयुक्त है हल्की एवं शारी भूमि इसकी खेती के लिए ठीक नहीं होती है हल्की भूमि में क..

Read More


मटर की उन्नत खेती

Hits: 442
जलवायु: यह शीत ऋतु की फसल है एवं ठण्डे मौसम में अच्छा उत्पादन देती है। बीज के अंकुरण के लिये 22 डिग्री से. एवं फसल की वृद्धि तथा विकास हेतु 13 से 18 डिग्री से. तापमान अनुकूल होता है। पाले से फसल की सुरक्षा जरूरी है। दाने ..

Read More


श्री विधि से सरसों की खेती

Hits: 627
श्री विधि से सरसों की खेती क्या है? यह सरसों की खेती करने का तरीका है जिसमें श्री विधि के सिद्धांतों का पालन करके अधिक उपज प्राप्त किया जाता है जैसे - कम बीज दर सिर्फ 50ग्राम से 250ग्राम तक एकड़। ..

Read More


फसलों में, अधिक सिंचाई से भी होती हानि

Hits: 678
पौधों के लिये जल की आवश्यकता : छोटे बढ़ते हुए पौधों में 85 से 90 प्रतिशत भाग केवल जल ही होता है। जल ही पौधों को कोशिकाओं में विद्यमान जीवद्रव्य (प्रोटोप्लाज्म) का एक आवश्यक अंग है। जीव द्रव्य में जल की कमी होने पर पौधो..

Read More


Follow us on

Subscribe Here

For More Articles