नकली और असली खाद में फर्क पता कैसे चलेगा ?

Share On :

how-to-know-the-difference-between-fake-and-real-manure

 

आदान विक्रेताओं के लिये महत्वपूर्ण बिंदु

  • प्रतिष्ठान के नाम का बोर्ड लगा हुआ होना चाहिए।
  • खाद बीज एवं कीटनाशक दवाई का पंजीयन का प्रदर्शन दुकान में अनिवार्य होना चाहिए।
  • स्टॉक एवं भाव सूची प्रदर्शित होना चाहिए।
  • स्टॉक पंजी निर्धरित प्रपत्र में संधारित की जाना चाहिये।
  • कैश मैमो क्रेडिट मैमो निर्धारित प्रारूप में संधारित होना चाहिए।
  • भंडार/गोदाम परिसर कृषि आदान के भंडारण योग्य होना चाहिए।
  • क्रेडिट एवं कैश मैमों किसानों को अनिवार्य रूप से दिया जाए।
  • चालान एवं इनवॉइस फाइल संधारित की जाए जिस पर क्रेता एवं विक्रेता दोनों के हस्ताक्षर हो।
  • सप्ताह की मासिक रिपोर्ट फाइल संधारित की जाए।
  • अनुज्ञप्ति के अलावा किसी अन्य सामग्री की बिक्री न की जाय। 
  • निरीक्षण के समय फर्म के संचालक द्वारा सहयोग किया जाए।
  • स्टॉक पंजियों का प्रमाणीकरण स्थानीय निरीक्षक से करायें।
  • उर्वरक, बीज एवं कीटनाशक औषधी निर्धारित दरों से अधिक दर पर नहीं बेची जाए।
  • अनुज्ञप्ति में दर्ज अधिकार पत्र अनुसार स्टॉक हो।
  • स्टॉक पंजी अनुसार निरीक्षण के दौरान स्टॉक का विवरण मिलान हो।

असली डी.ए.पी. की पहचान : किसान भाईयों डी.ए.पी. के कुछ दानों को हाथ में लेकर तम्बाकू की तरह उसमें चूना मिलाकर मलने पर यदि उसमें से तेज गंध निकले जिसे सूंघना मुश्किल हो  जाये तो समझें कि डी.ए.पी. असली है। किसान भाइयों डी.ए.पी. को पहचानने की एक और सरल विधि है। यदि हम डी.ए.पी. के कुछ दाने धीमी आंच पर तवे पर गर्म करें यदि ये दाने फूल जाते हैं तो समझ लें यही असली डी.ए.पी. है किसान भाईयों डी.ए.पी. की असली पहचान है। इसके कठोर दाने भूरे काले एवं बादामी रंग के होते हैं। और नाखून से आसानी से नहीं टूटते हैं। 

असली यूरिया की पहचान: किसान भाइयों यूरिया की पहचान है इसके सफेद चमकदार लगभग समान आकार के कड़े दाने, इसका पानी में पूर्णतया घुल जाना तथा इसके घोल को छूने पर शीतल अनुभूति होना ही इसकी असली पहचान है। किसान भाईयों यूरिया को तवे पर गर्म करने से इसके दाने पिघल जाते हैं यदि हम आंच तेज कर दें और इसका कोई अवशेष न बचे तो समझ लें यही असली।

असली सुपर फास्फेट की पहचान : किसान भाईयों फास्फेट  की पहचान है इसके सख्त दाने तथा इसका भूरा काला बादामी रंग। किसान भाईयों इसके कुछ दानों को गर्म करें यदि ये नहीं फूलते  तो समझ लें यही असली सुपर फास्फेट है ध्यान रखें कि गर्म करने पर डी.ए.पी. व अन्य कॉम्प्लेक्स के दाने फूल जाते हैं जबकि सुपर फास्फेट के नहीं इस प्रकार इसकी मिलावट की पहचान आसानी से की जा सकती है। किसान भाईयों सुपर फास्फेट नाखूनों से आसानी से न टूटने वाला उर्वरक है। किसान भाईयों ध्यान रखें इस दानेदार उर्वरक में मिलावट बहुधा डी.ए.पी. व एन.पी.के. मिक्चर उर्वरकों के साथ की जाने की सम्भावना बनी रहती है।

असली पोटाश की पहचान : किसान भाईयों पोटाश की असली पहचान है इसका सफेद कड़ाका इसे नमक तथा लाल मिर्च जैसा मिश्रण किसान भाईयों पोटाश के कुछ दानों को नम करें यदि ये आपस में नहीं चिपकते हैं तो समझ लें की ये असल पोटाश है। किसान भाईयों एक बात और पानी में घुलने पर इसका लाल भाग पानी में ऊपर तैरता रहता है।

खाद, बीज, कीटनाशक खरीदते समय किसान भाईयों के लिए महत्वपूर्ण बिंदु

  • खाद, बीज एवं पौधे संरक्षण दवाइयों का क्रय अधिकृत लायसेंसधारी विक्रेताओं से ही करें।
  • क्रय किये जा रहे आदान का पक्का बिल अवश्य प्राप्त करें जिस पर सामग्री का नाम, बैच नं. स्पष्ट रूप से लिखा गया हो।
  • जारी किये गये कैश/के्रडिट मैमों (बिल) पर किसान एवं दुकानदार दोनों के हस्ताक्षर     अनिवार्य हों।
  • उपयोग किए गए कीटनाशकों के डिब्बे आदि को उचित तरीके से नष्ट करें।
  • उपयोग किए गए बीजों की बोरियों एवं टेग को सुरक्षित रूप से रखें जिससे विवाद की स्थिति में काम आ सकें।
  • उर्वरक की बोरियों को सुरक्षित रखें जिससे विवाद की स्थिति न आ सके।
  • खाद, बीज एवं कीटनाशकों का प्रयोग अनुशंसा अनुसार करें।
  • किसी भी आदान विक्रेता के यहां संदेहास्पद सामग्री की जानकारी होने पर तत्काल विभागीय अधिकारियों को सूचित करें।
Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles