प्रदेश में रबी बोनी की धीमी शुरुआत

Share On :

rabi-boneys-slow-start-in-the-state

(विशेष प्रतिनिधि)

भोपाल। प्रदेश में अतिवर्षा के बाद रबी बोनी की धीमी शुरुआत हुई है। अब तक मात्र 6 लाख हेक्टेयर में बोनी की गई है जबकि गत वर्ष इस समय तक 23 लाख हेक्टेयर में बुवाई कर ली गई थी।

जानकारी के मुताबिक इस वर्ष 119.18 लाख हेक्टेयर में रबी फसलें लेने का लक्ष्य रखा गया है जबकि गत वर्ष 116.70 लाख हेक्टेयर में रबी फसलें बोई गई थी। गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष गेहूं का रकबा लगभग 4 लाख हेक्टेयर बढ़ाकर 64 लाख हेक्टेयर किया गया है। कृषि विशेषज्ञों का कहना है इस वर्ष पर्याप्त नमी को देखते हुए रबी फसलों का बम्पर उत्पादन होने की संभावना है। खरीफ में हुए नुकसान की भरपाई रबी से हो सकती है। क्योंकि गेहूं का रकबा निर्धारित समय से भी अधिक हो सकता है। अब तक केवल 74 हजार हेक्टेयर में गेहंू बोया गया है। शीघ्र ही इसके रफ्तार पकडऩे की उम्मीद है।

प्रमुख रबी फसलों की बोनी 6 नवम्बर तक (लाख हे. में)
फसल लक्ष्य बुवाई
गेहूं 64 0.74
जौ 1.35 0.05
चना 34.15 1.53
मटर 3.5 0.17
मसूर 5.5 0.15
सरसों 7.5 3.28
गन्ना 1 0.09

प्रदेश की अन्य प्रमुख फसलों में चने का रकबा इस वर्ष लगभग 1 लाख हेक्टेयर कम किया गया है। इस वर्ष 34.15 लाख हेक्टेयर में बोनी की जाएगी, जबकि गत वर्ष 35.32 लाख हेक्टेयर में बोनी की गई थी। राज्य में अब तक 1.53 लाख हेक्टेयर में चना बोया गया है। वहीं प्रदेश में सरसों की बोनी अब तक 3.28 लाख हेक्टेयर में एवं गन्ना 9 हजार हेक्टेयर में बोया    गया है।
 

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles