रिलायंस फाउण्डेशन की किसानों को सलाह

Share On :

reliance-foundation-advice-for-farmers

  • धान में झुलसा रोग के कारण पौधा ऊपर से सूखना शुरू हो जाता है सबसे पहले पत्ती का ऊपरी सिरा और फिर दोनों छोर से पत्तियां सूखती है। और अंत में पूरा पौधा सूख जाता है। इसके नियंत्रण के लिए 2 ग्राम कापर ऑक्सीक्लोराइड एवं 3 ग्राम एग्रीमाइसिन दवा को 15 लीटर पानी में घोल छिड़कें।
  • गेहंू की उन्नत किस्में इस प्रकार हैं- पूर्ण सिंचित किस्में- जे.डब्ल्यू.-1203, 1215, एचआई-1544 आदि, 1 से 2 सिंचाई वाली किस्में, जे.डब्ल्यू.-3288, 3211,3020, एच.आई.-1531 आदि हैं। असिंचित किस्में- जे.डब्ल्यू.-3288, जे.डब्ल्यू.-3173 आदि।
  • चना का बीज दर 40 किग्रा/एकड़, मटर का बीज 25 किग्रा/एकड़, मसूर का बीज 15 किग्रा/एकड़, अलसी का बीज 10 किग्रा/एकड़, सरसों का बीज 2 किग्रा प्रति एकड़ का उपयोग करें।
  • रबी फसलों में कीट नियंत्रण के लिए पक्षियों को बैठने के लिए T (टी) आकार की 40 से 50 खूंटियां प्रति हेक्टर लगायें। पक्षियों द्वारा इल्लियों को खाकर नष्ट करेंगी। साथ ही पक्षियों की बीट खेत में खाद का कम भी करेंगी।

उद्यानिकी

  • आलू में पौध की ऊँचाई यदि 15 से 22 से.मी. हो जाए, तब उनमे मिट्टी चढ़ाने का कार्य जरूर करें अथवा बुवाई के 30 से 35 दिन बाद मिट्टी चढ़ाने का कार्य अवश्य सम्पन्न करें।

पशुपालन 

पशुओं को बाहरी परजीवी से बचाव के लिए ब्यूटोक्स का उपयोग करें। पशु शाला की नियमित सफाई करें 1 लीटर पानी में 5 मिली फिनायल मिलाकर फर्श की सफाई करें।

रिलायंस फ़ाउंडेशन के यूट्यूब चैनल पर कृषि एवं अन्य संबन्धित वीडियो को देखने के लिए नीचे दिये गए लिंक को यूट्यूब में टाइप कर, चेनल को subscribe करें, वीडियो को लाईक करे और शेयर करें।

दलहनी फसलों में राइजोबियम का उपयोग। Use of Rhizobium Culture for Pulses crops http://bit.ly/xvmJiPz

अधिक जानकारी के लिए सुबह 9:30 से शाम 7:30 के मध्य टोल फ्री नं 18004198800 पर संपर्क करें।

कृषि, पशुपालन, मौसम, स्वास्थ, शिक्षा आदि की जानकारी के लिए जियो चैट डाउनलोड करें-डाउनलोड करने की प्रक्रिया:-

  • गूगल प्ले स्टोर से जियो चैट एप का चयन करें और इंस्टॉल बटन दबाएं। 
  • जियो चैट को इंस्टॉल करने के बाद, ओपन बटन दबाएं।
  • उसके बाद चैनल बटन पर क्लिक करें और चैनल Information Services MP का चयन करें। 
  • या आप नीचे के QR Code को स्कैन कर, सीधे Information Services MP चैनल का चयन कर सकते हैं। 
Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles