गाजरघास का जैविक नियंत्रण

Share On :

biological-control-of-carrots

नरसिंहपुर। भारत सरकार के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के निर्देशानुसार गत सप्ताह गाजरघास उन्मूलन जागरूकता सप्ताह कार्यक्रम करने के परिपेक्ष्य में कृषि विज्ञान केन्द्र नरसिंहपुर के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख डॉ. के. वी. सहारे के मार्गदर्शन में विकासखण्ड नरसिंहपुर के ग्राम सूरजगंाव व गोटेगांव के ग्राम करकबेल में कृषकों व स्कूल के छात्र-छात्राओं के साथ कार्यक्रम मनाया गया। गाजरघास से होने वाले रोगों जैसे सर्दी, दमा, खुजली आदि के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि गाजरघास को नियंत्रित करने के लिये जैविक नियंत्रण अंतर्गत मैक्सीकन वीटल जाइगोग्रामा वाईस्लोराटा का उपयोग करें या नमक का घोल का छिड़काव करें। कार्यक्रम में केन्द्र के वैज्ञानिक डॉ. एस.आर.शर्मा, डॉ.यतिराज खरे, डॉ.पूजा चतुर्वेदी के साथ ही शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय करकबेल के प्रधानाचार्य श्री ओ. पी. मेहरा व स्टाफ  तथा प्रगतिशील कृषक श्री नारायण पटेल उपस्थित रहे। 

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles