सेलक्विन का वार, असर जोरदार

Share On :

cellquin-blows-effect-strongly

इंदौर। मक्का की फसल पर इस साल नए कीट फॉल आर्मी वर्म का प्रकोप देखा जा रहा है। यह एक बहुभक्षी कीट है जो फसलों को कई तरह से नुकसान पहुंचाता है। यह कीट बड़ी संख्या में फसल पर हमला कर थोड़ी देर में ही फसल को नष्ट करने की क्षमता रखता है। खास बात यह है कि इस पर नियंत्रण के लिए कीटनाशक निर्माता कम्पनी  एक्सेल क्रॉप केयर लि.का उत्पाद सेलक्विन का वार मक्का फसल पर असरकारक सिद्ध हो रहा है।

इस बारे में अपने अनुभव बांटते हुए बिलावली के कृषक श्री गगन नागर ने कृषक जगत को बताया कि  उन्होंने 3  एकड़ रकबे में मक्का की फसल लगाई है जो 90 दिन की हो गई है। इस मक्का फसल में इल्लियां हो गई हैं। जिन्हें खत्म करने की तैयारी में ही था कि एक्सेल क्रॉप केयर लि. के फील्ड मार्केटिंग मैनेजर श्री भगवान वर्मा अपने उत्पाद सेलक्विन का प्रदर्शन करने खेत पर आए। उन्होंने सेलक्विन के साथ श्योरशॉट का 5 मिली का पाउच मिलाकर छिड़काव करवाया। 10-15 मिनट में ही दवाई का असर शुरू हो गया और इल्लियां मर गई। इतनी जल्दी असर देखते ही मैंने पूरे खेत में महंगी दवाओं के बजाय सेलक्विन का छिड़काव करने का निर्णय लिया और अगले दिन छिड़काव कर भी दिया। उन्होंने किसानों को संदेश दिया कि मक्का की इल्लियों को खत्म करने के लिए अन्य महंगी दवाइयां असर न कर रही हों तो किफायती सेलक्विन का इस्तेमाल करें। यह जल्द नतीजे देता है।

इसी तरह सेलक्विन का दूसरा प्रदर्शन बिलावली के ही श्री बेनीराम नागर की 95  दिन की मक्का की फसल में भी किया गया। इनके खेत में सेलक्विन के साथ क्विनालफॉस 50  मिली और श्योरशॉट 5 मिली मिलाकर छिड़काव किया गया। जिसके नतीजे भी उत्साहवर्धक रहे। 10 मिनट में इल्लियां मर गई और माहू भी नष्ट हो गए। श्री बेनीराम ने किसान भाइयों को यही संदेश दिया कि मक्का में सेलक्विन का स्प्रे करें और तुरंत इसका रिजल्ट पाएं।
 

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles