एसएलआर -525 से पाया सफेद मक्खी पर नियंत्रण

Share On :

white-fly-control-found-with-slr-525

इंदौर। देश की प्रमुख कीटनाशक निर्माता कम्पनी जीएसपी क्रॉप साइंस प्रा.लि. के उत्पाद के नतीजों से किसानों में उत्साह है। धार जिले की मनावर तहसील के दो किसानों ने अपने अनुभव के आधार पर इस कम्पनी के उत्पाद एसएलआर -525 के उपयोग करने की सलाह अन्य किसानों दी है।

इस बारे में ग्राम करोली (मनावर) के किसान श्री रामनारायण पाटीदार ने कहा कि पिछले साल मैं कपास की फसल में सफेद मक्खी से बहुत परेशान था। इस पर नियंत्रण पाने के लिए बहुत कोशिश की, लेकिन सफलता नहीं मिली। फिर मुझे जीएसपी क्रॉप साइंस प्रा. लि. के फील्ड एडवाइजर ने इस कम्पनी के उत्पाद  एसएलआर -525  को 500 मिली/एकड़ की दर से प्रयोग करने की सलाह दी। प्रयोग के बाद परिणाम देखा तो दंग रह गया, क्योंकि 5-6  घंटों में ही सफेद मक्खी का मरना शुरू हो गया। सफेद मक्खी के अंडों और निम्फ पर भी नियंत्रण पा लिया। एसएलआर-525  के प्रयोग के 25 दिन बाद भी फसल पर सफेद मक्खी नहीं दिखी। इस उत्पाद ने फसल को हरा-भरा और कीट मुक्त कर दिया था। वहीं ग्राम बडग़ांवखेड़ी (मनावर) के किसान श्री अमृत शंकरलाल पाटीदार ने बताया कि मेरे द्वारा गत वर्ष जीएसपी क्रॉप साइंस प्रा.लि. कम्पनी के उत्पाद एसएलआर-525  का छिड़काव कपास की फसल में किया गया था। जिसका अच्छा नतीजा मिला। इसके छिड़काव ने  सफेद मक्खी, हरा मच्छर, थ्रिप्स को समाप्त कर पौधों को हरा-भरा भी कर दिया था। इसका असर 20 -25 दिन तक रहा। मेरा किसान भाइयों से निवेदन है कि वे एक बार अपनी फसल में एसएलआर-525 का छिड़काव अवश्य करें। नतीजे अच्छे ही मिलेंगे।
 

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles