तकनीक व किसानों के बीच खत्म करें दूरी - प्रो. राव

Share On :

transfer-of-technology-necessary-to-improve-farmer-income

कृषि विज्ञान केन्द्रों की कार्यशाला

ग्वालियर। 2022 तक किसानों की आय दुगुनी करने के लिए उनके व तकनीक के बीच दूरी को खत्म करना होगा। फसल प्रबंधन और उत्पादन लागत कम करने का ज्ञान अधिकतर किसानों से दूर है। इस दूरी और कमी को पूरा करने में कृषि वैज्ञानिकों को सेतु के रुप में महत्वपूर्ण भूमिका तेजी से निभाना चाहिए।

राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय में दो दिवसीय कार्यशाला में यह बात कुलपति प्रो. एस. के. राव ने कही।  

कार्यशाला में 2019 के लिए सभी कृषि वैज्ञानिक अपनी कार्ययोजना का पे्रजेंटेंशन देने आए थे। निदेशक विस्तार सेवाएं डॉ. आर. एन. एस. बनाफर ने वैज्ञानिकों से कहा कि सफल प्रयोगों को कृषि विज्ञान केन्द्र एक दूसरे से साझा करें व उससे अपनी कार्ययोजना को बेहतर भी बनाएं। कृषि तकनीकी अनुप्रयोग अनुसंधान संस्थान अटारी जबलपुर के प्रधान वैज्ञानिक डॉ. एस. आर. के. सिंह ने कहा कि कृषि वैज्ञानिक सीमाओं में बंधे न रहकर तकनीकों का आदान-प्रदान करें। कार्यशाला में निदेशक शिक्षण डॉ. ए. के. सिंह., कृषि विज्ञान केन्द्र ग्वालियर के प्रमुख डॉ. राजसिंह कुशवाह सहित अन्य केन्द्रों के वैज्ञानिकगण शामिल थे। संचालन डॉ. शैलेन्द्र सिंह कुशवाह ने किया एवं आभार संयुक्त संचालक विस्तार सेवाएं डॉ. यू.पी. एस. भदौरिया ने जताया। 

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles