जैविक खेती ने कैलाश को दिलाई अलग पहचान

Share On :

organic-farming-boosts-farmer-income

(दिलीप दसौंधी, मंडलेश्वर)। जीरो बजट खेती के जनक श्री सुभाष पालेकर, अमरावती की प्रेरणा और प्रशिक्षण से 2010  में जैविक खेती की शुरुआत करने वाले ग्राम भुदरी तहसील महेश्वर जिला खरगोन के 49 वर्षीय किसान श्री कैलाश पाटीदार अपनी 8 एकड़ जमीन में कपास, केला, पपीता आदि के साथ अंतरवर्तीय फसलें भी लेते हैं। इसके अलावा जैविक बीज कार्यक्रम भी संचालित कर उन्होंने क्षेत्र में अपनी पृथक पहचान बना ली है।

आत्मा परियोजना, खरगोन की मदद से खरगोन, इंदौर और भोपाल में समुचित प्रशिक्षण लेकर श्री कैलाश पाटीदार जैविक खेती कर रहे हैं। वे अपनी फसलों में पंच गव्य का इस्तेमाल करते हैं जो गोबर, गोमूत्र, छाछ /दही, दूध  और नारियल पानी से तैयार किया जाता है। इसका स्प्रे 15  लीटर पानी में 15  मिली लीटर की दर से किया जाता है। गत वर्ष उन्होंने जैविक कपास लगाया था जो 8 क्विंटल /एकड़ रहा, जबकि इस साल गेहूं का उत्पादन 16 क्विंटल /एकड़ रहा। वे अंतरवर्तीय फसलें भी लेते हैं। पिछले साल उन्होंने सुरजना के साथ खीरा लगाया था। जबकि इस साल कपास में हल्दी लगाने की तैयारी कर रहे हैं। सभी फसलों के लिए लाभप्रद गृह निर्मित वेस्ट डिकम्पोसर के उपयोग से टिश्यू भी अच्छे आते हैं और जमीन भी भूर -भूरी हो जाती है।

 

ऑल इण्डिया बायो डायनेमिक एन्ड ऑर्गेनिक फार्मिंग एसोसिएशन, इंदौर द्वारा जारी जैव गतिकीय कृषि एवं बागवानी पंचांग में चंद्र राशि की स्थिति अनुसार बोवनी करने की सलाह दी गई है। कहा गया है कि यदि शनि और चंद्र आमने -सामने हो तो पूर्णिमा से 48 घंटे पहले बोवनी करना अच्छा रहता है। इस दिन बोई गई फसल स्वस्थ, पुष्ट और कीट व्याधि प्रकोप के प्रति सहनशील होने से नुकसान कम होता है। श्री पाटीदार, वसुधा जैविक कृषक कल्याण समिति,  करही से मिले बीज का क्रासिंग कर आधार बीज भी तैयार करते हैं, जिसे वसुधा समिति ही क्रय कर इस बीज को अन्य किसानों को बेचकर उन्हें जैविक खेती के लिए प्रेरित करती है। जैविक खेती में उनके उल्लेखनीय कार्यों को देखते हुए 2015 में कृषि विभाग, महेश्वर ने विकास खंड स्तरीय सर्वोत्तम कृषक का प्रमाणपत्र भी दिया जा चुका है। इनकी  जैविक खेती देखने  के लिए कई विदेशी यात्री, कृषि कंपनियों के अधिकारी और अंकेक्षक भी इनके यहां भ्रमण कर चुके हैं।
 

Share On :

Follow us on

Subscribe Here

For More Articles

Releated Articles